कमर दर्द की समस्या के रामबाण उपाय

6

कमरदर्द की समस्या-
आज के समय में कमर में दर्द होना एक आम समस्या है। सामान्यतौर पर लोग कमर दर्द होने पर दवाइयों,क्रीम या स्प्रे आदि लगाते है इस दवाइयों,क्रीम स्प्रे से भले ही कुछ देर के लिए उनका दर्द ठीक हो सकता है पर दो-तीन दिन बाद फिर वही दर्द होना शुरू हो जाता है। और आप इससे परेशान रहने लगते है। ऐसी स्थिति में आप क्रीम या स्प्रे लगाने से पहले आपके कमर दर्द किस कारण हो रहा है यह जानना बहुत आवश्यक होता है। क्योंकि अगर दर्द की असली वजह का पता होगा, तभी आप इस दर्द से हमेशा के लिए मुक्ति पा सकते है।
एक वक्त था जब कमरदर्द की समस्या बढती उम्र के साथ होती थी लेकिन अब जीवनशैली ही ऐसी हो गयी है कि अब यह समस्या उम्र नहीं देखती है। कमर दर्द में आमतौर पर पीठ के निचे के भाग में दर्द होता है, कमर में खिंचाव या अकड़न महसूस होती है। आमतौर पर कमर दर्द इतना गंभीर नहीं होता है। यह कुछ दिनों में ठीक हो जाता है। लेकिन तकलीफ उतने दिन तो उठानी ही पड़ती है। कमर की बनावट में मांसपेशियां, हड्डियां, डिस्क, जोड़, लिगामेंट, नसें आदि शामिल हैं। इनमें से किसी के भी विकार होने से कमर दर्द होने लगता है।
कमर दर्द के कई कारण हो सकते है जैसे ऐसा कार्य जिसमें एक ही जगह पर बैठकर घंटो तक काम करना और जिसमे हाथों का उपयोग अधिक हो तो कमर दर्द हो सकती है। ठीक तरह से नहीं बैठना,झटके से खड़ा हो जाना, बिस्तर पर सही तरीके से नहीं सोना, शरीर में मेटाबोलिक रसायनों की कमी होना, कमर पर अधिक लोड वाला काम करना,आदि के कारण कमरदर्द हो सकता है।
महिलाओं में कमर दर्द के कारण-
मासिक धर्म में अनियमितता होना, अधिक देर तक बैठे रहकर काम करना, विटामिन-डी की कमी होना, हिल्स वाली सेंडल पहनना,अधिक डायटिंग करना, वजन अधिक होना,अनियमित खानपान,भारी वस्तु को उठा लेना आदि कारण हो सकते है।
पुरुषों में कमर दर्द का कारण
भारी सामान उठाना, पीठ में जोर देने वाले काम करना,घंटो तक कंप्यूटर पर बैठे रहना,कब्ज होना,अधिक बोझ-भार वाला काम करना,बचपन में कमर में गहरी चोट लगना,मोटापा होना,झटके से उठने पर कमर में मोच आ जाना,निकोटिन युक्त पदार्थ जैसे गुटखा, धूम्रपान आदि का सेवन करना,रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर, घंटो गाड़ी चलाना,अधिक हस्तमैथुन करना, सोते वक्त मोटे तकिए का इस्तेमाल करना आदि कारणों से पुरुषों को कमर दर्द हो सकता है।
कमर दर्द के लक्षण-
मांसपेशियों में खिंचाव होना,कमर में अत्यधिक दर्द रहना,कमर में खिंचाव होना ,चुभन या दर्द का लगातार रहना, दर्द का पैरों तक पहुँचना,कमर का झुकना, उठने, खड़े होने या फिर चलते समय बढ़ना,लेटने से कमर दर्द में आराम मिलना आदि कमर दर्द के लक्षण होते है
बचाव के उपाय-

  • अधिक देर तक एक ही स्थिति में नहीं बैठें। बहुत अधिक देर तक बैठना आवश्यक हो तो थोड़ी-थोड़ी देर में उठें।
  • झटके से ना तो उठे और न ही बैठे। इस तरह से बैठे ताकि रीढ़ को सहारा मिले। जब भी झुकें तो रीढ़ की जगह घुटने मोड़ें।
  • रोजाना एक घंटा एक्सरसाइज अवश्य करें।
  • खाने में पौष्टिक भोजन खाएं। हरी सब्जियां, फल, ड्राई फ्रूट, दूध व दही आदि का सेवन करें। साथ ही कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थो का भी सेवन करें ।
  • बाहर का खाना,जंक फूड,तैलीय खाना, चीनी आदि का सेवन नहीं करें।
    घरेलू उपचार
  • 1 चम्मच अजवाइन को तवे पर रखकर 2-3 मिनट के लिए गर्म करें। ठंडा होने के बाद इसको चबाकर खाएं। प्रतिदिन खाना खाने के बाद इसका सेवन करने से कुछ ही दिनों में आपको कमर दर्द से राहत मिलेगी।
  • एक चम्मच मेथी दाना लेकर इसका पाउडर बना लें। अब एक ग्लास गर्म दूध में इसे मिलाएं और साथ में एक चम्मच शहद भी डालें। इसे सिप लेते हुए धीरे-धीरे पियें। एक घंटे में आपका कमर दर्द ठीक हो जाएगा।
  • हल्दी सभी प्रकार के दर्द में लाभदायक होती है। एक ग्लास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं और धीरे-धीरे रात को पीकर सो जाएं और सुबह तक आपका दर्द गायब हो जाएगा।
  • लहसुन की 8 से 10 कलियां लेकर इसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को कमर पर लगाएं। और गर्म पानी में एक तौलिया डुबाएं और उसे निचोड़ लें। इस तौलिये को लहसुन पेस्ट लगे कमर के हिस्से के ऊपर रख दें। 20-25 तक मिनट रखने के बाद कमर के हिस्से को साफ कर लें।
  • 100 ग्राम सरसों के तेल मे 20 ग्राम देशी कपूर डाल कर रखें जब कपूर अच्छी तरह तेल में मिल जाएँ। तब तेल को हलका गर्म करके कमर पर मालिश करें। यह प्रयोग रोजाना नहाने से पहले करें। इससे कमर दर्द ठीक हो जाएगा।
  • थोडा सा नमक लेकर इसको को गर्म करें। गर्म होने के बाद इसको एक कपड़े में बांध कर पोटली बना लें। अब रात को सोने से पहले इस पोटली को दर्द वाले हिस्से पर रखें। रोजाना इसका सेक करने से कुछ ही दिनों में दर्द गायब होने लगेगा।