शरीर में पानी की कमी होने पर करे यह उपाय

11


गर्मी के मौसम में आपके शरीर को पानी की अधिक आवश्यकता होती है। शरीर में पानी की कमी से आपको बहुत-सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वैसे तो कहा जाता है की यूं तो हर व्यक्ति को दिन में कम से कम आठ-दस गिलास पानी का सेवन करना चाहिए। लेकिन हम आपको बता दें हर व्यक्ति की पानी की जरूरत अलग-अलग होती है। इसलिए यह बहुत आवश्यक है कि आप इस बात को समझें कि आप पर्याप्त मात्रा में पानी पी रहें या नहीं। दिनभर की भागदौड़ में अक्सर हम भूल जाते की पानी भी पीना है और ऐसा करना हमारे शरीर के लिए बहुत नुकसानदायक हो सकता है। पानी पीना हमारे शरीर के लिए उतना ही आवश्यक है ,जितना जिंदा रहने के लिए सांस का लेना आवश्यक है। आपने यह तो सुना ही होगा कि मनुष्य भोजन के बिना जीवित रह सकता है, लेकिन पानी के बिना नहीं जीवित नहीं रह सकता है। जल ही जीवन का आधार है। मानव शरीर में 70 फीसदी पानी होता है या पानी से बना होता है। इसलिए पानी भरपूर मात्रा में सेवन करना चाहिए। पानी पीकर ही शरीर को कई बीमारियों से बचाया जा सकता है। अगर शरीर को पर्याप्त मात्रा में पानी मिलता रहे तो यह हमें कई रोगों से बचा सकता है। लेकिन शरीर में पानी की कमी होने से कई बीमारियों व समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। हमारे शरीर के सभी अंग अपना काम सुचारू रूप से करते रहे, इसके लिए आवश्यक है कि नियमित तौर पर पानी पिया जाएं। शरीर में पानी की कमी होने पर शरीर पर बहुत बूरा प्रभाव पड़ता हैं। एक व्यक्ति को कम से कम दिन में दो-तीन लीटर पानी जरूर पीना चाहिए। शरीर में पानी की कमी डायरिया, उल्टी होने से, बुखार आने से, अधिक पसीना आने से,या बार-बार पेशाब आने भी हो सकती है। हमारे शरीर में पानी की कमी होने से हमारा पाचन तंत्र पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जिसके कारण हमे कब्ज की समस्या हो जाती है लेकिन हमें लगता है कि कब्ज की समस्या का उपचार केवल फाइबर से ही होता है लेकिन पानी भी उतना ही आवश्यक है। फाइबर गट सिस्टम से जहरीले पदार्थ निकालने में मदद करता है लेकिन इन जहरीले पदार्थों को फ्लश करने के लिए पानी की ही आवश्यकता होती है। अगर पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीते हैं तो हमारी त्वचा पर भी इसका असर होता है। हमारी त्वचा रुखी व टाईट हो जाती है और खुजली भी हो सकती है। पानी कम पीने पर ब्लैडर, किडनी या UTI में संक्रमण का खतरा हो सकता है। किडनी और पानी का एक गहरा सम्बन्ध है क्योकिं यह हमारे शरीर में पानी का संतुलन बनाए रखने के लिए काम करती है किडनी को भी सुचारू रूप से काम करने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। अगर किडनी अपना काम ठीक से नहीं कर पाती है तो आपको ब्लैडर और यूरिनरी संक्रमण होने का आशंका बढ़ जाती है। शरीर में पानी की कमी होने आप थका हुआ और सुस्त महसूस करेंगे। शरीर में पानी की कमी का असर ऊर्जा के स्तर पर और हमारी सोचने-समझने की क्षमता पर भी पड़ता है। डॉक्टरों के मुताबिक, दिन भर रहने वाली थकान की यह एक अहम वजह होती है,शरीर की व्यवस्थाएं रक्त द्वारा उपलब्ध ऑक्सीजन पर निर्भर करती हैं।
इन सभी समस्याओं से बचने के लिए दिन में पर्याप्त मात्रा में पानी जरूर पीना चाहिए। आप पानी के अलावा सूप, सब्जियों और ड्रिंक्स, फ्रूट जूस से भी पानी की कमी से बच सकते हैं बस कैलोरी का ध्यान रखें। जब शरीर में पानी की कमी हो जाती है तो हमारा मुंह बार-बार सूखने लगता है। तो यह समझ लें कि हमारे शरीर को की जरूरत होती है ऐसे में तुरंत पानी पीना चाहिए।शरीर में पानी की कमी से व्यक्ति को पसीना कम आता है जिससे शरीर के खराब तत्व यानि विषाक्त पदार्थ बाहर नहीं निकल पाते है और इससे त्वचा सम्बन्धी रोग हो जाते है इसलिए अधिक मात्र में पानी पियें।

शरीर में पानी की कमी दूर करने के उपाय –

  • पानी की कमी होने पर तरल पदार्थों का अधिक सेवन करना चाहिए। जैसे ताजा नारियल पानी, ताजा फलों का रस, पानी और सूप पीने से शरीर में पानी की कमी दूर हो जाती है।
  • अपने रोजाना के आहार में ताजे फलों और सलाद का सेवन जरुर करें।
  • चाय,कॉफी,आदि पेयों को पीने से बचे क्योकिं इससे बार-बार पेशाब लगता है जिससे शरीर से पानी निकल जाता है इनका सेवन कम मात्रा में करें।
  • थोड़ी थोड़ी मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करते रहे। यदि आपको बार-बार उल्टी हो रही है तो एक बार में ज्यादा पानी नहीं पीकर थोडा-थोडा पानी पियें।
  • यदि सादा पानी नहीं पीया जा रहा तो निम्बू पानी खीरा, पुदीने के साथ डीटॉक्स वाटर बना कर भी ले सकते हैं।
  • यात्रा के दौरान अपना नमक,ग्लूकोस पानी का घोल ले कर ही चलें।