हाई बीपी को जड़ से ख़त्म करने के 10 रामबाण उपाय !!!

868

दोस्तों हाई बीपी यानि हाई ब्लड प्रेशर यह समस्या आजकल सभी को होने लगी है। यह रोग चुपके चुपके शरीर में आता है और कई तरह की बीमारियों को साथ लाता है। कई दिनों तक तो इस रोग का पता ही नही चलता लेकिन जब पूर्ण रूप से हमारे शरीर में इस रोग का प्रभाव होता है तब हमें इसके बारे में पता चलता है। जो लोग क्रोध, भय, दुख या अन्य भावनाओ के प्रति अधिक संवेदनशील होते है उन्हें ये रोग अधिक होता है। जो लोग कम परिश्रम करते है तथा अधिक तनाव में रहते है उन्हें यह रोग अधिक होता है और जो लोग शराब या धुम्रपान अधिक करते है या जिनका खानपान सही नही है उन्हें भी ये रोग होता है। इसमे सिर में दर्द होता है और चक्कर आने लगते है। दिल की धड़कन तेज हो जाती है, आलस्य होना, जी घबराना, काम में मन न लगना, पाचन क्षमता कम होना, आँखों के सामने अँधेरा आना और नींद न आना जैसे आदि लक्षण होते है।

पर अक्सर लोग इस रोग के होने के कारण को न जानकर दवाइया पे दवाइया खाते रहते है और यह सोचते रहते है कि हमारी यह समस्या इन दवाओ से ठीक हो जाएगी पर जब तक आप इस रोग के बारे में पूर्ण रूप से नही जान लेते तब तक आपकी यह समस्या जड़ से ख़त्म नही हो सकती। फिर भले ही आप कितने भी डॉक्टर्स के चक्कर लगा लो और डॉक्टर भी आपको इस रोग के बारे में पूर्ण जानकारी नही देंगे क्योकि उनको सिर्फ आपको दवा देना है और आपसे पैसा लेना है, इसके आलावा कुछ नही।

तो ऐसी स्तिथि आपको थोडा होशियारी से काम लेना है। दोस्तों हम आपको हर किसी न किसी लेख में बताते है कि आपको कोई भी बीमारी या रोग हो तो उसका कारण आपको जरुर पता होना चाहिए। क्योकि बीमारी के कारण को जब आप जान लेते है तो रोग को पूर्ण रूप से जड़ से ख़त्म किया जा सकता है। यानि बीमारी के उपचार से पहले बिमारी के कारणों पर जोर देना जरुरी है। अब आपके मन में ये सवाल उठ रहा होगा कि हाई ब्लड प्रेशर होने का क्या कारण है और हमे ये रोग क्यों होता है?

दोस्तों जब हमारा दिल खून को शरीर की सारी नसों में भेजता है सारी नसों में सप्लाई करता है तो हमारी नसों में खून गाढ़ा होने की वजह से दिल पर दबाव बढ़ता जाता है जिससे दिल खून भेजने की स्पीड को बढ़ा लेता है तो इसे ही हाई ब्लड प्रेशर कहते है।

अब आपके मन में एक और सवाल उठ रहा होगा कि आखिर शरीर में खून गाढ़ा किस कारण होता है?

दोस्तों जब हमारे पेट में अम्ल (acid) की मात्रा बढ़ जाती है तो हमें पेट से जुड़ी छोटी मोटी बीमारिया होने लगती है। जैसे पेट में गेस बनना, पेट दर्द होना, अल्सर यानि पेट में छाले, रात में पेट फूल जाना जिससे नींद न आना, सांस लेने में दिक्कत ये सब हमारे शरीर मे एसिड अधिक मात्रा में बनने की वजह से होते है।

ये ही acid अगर बढ़ते बढ़ते हमारे खून में पहुँच जाए तो हमे ब्लड एसिडिटी होगी जिसे रक्त अम्लता भी कहते है और शरीर में रक्त अम्लता बढ़ने पर ही हाई bp की समस्या, हार्ट अटेक होना, शुगर होना, ब्लड कैंसर, जैसी बड़ी बड़ी बीमारिया होने लगती है।

अब दोस्तों आपको एक और सवाल करना है कि शरीर में एसिड किस कारण बढ़ता है? शरीर में एसिड हमारे खानपान में हुई गड़बड़ और गलत आदतों के कारण बढ़ता है।

आप बस एक बात का ध्यान रखे कि जब भी भोजन करे तो अपने भोजन में देखिये कि कहीं आप ऐसी चीजे तो नही खा रहे है जिसमे एसिड की मात्रा ज्यादा हो। जैसे कि अगर आप आयोडीन युक्त नमक का प्रयोग कर रहे है तो इसे तुरंत बंद कर दीजिये। यह शरीर में एसिड बहुत अधिक मात्रा में बढाता है जिससे हाई बीपी की समस्या और हार्ट अटेक होने की सम्भावनाऐ बढ़ जाती है। तो जल्दी से आप इसका प्रयोग बंद कर दीजिये। ऐसे ही चाय, कॉफ़ी, सफ़ेद शक्कर, अचार, धुम्रपान करना, शराब पीना, सफ़ेद गुड जो आजकल मार्केट में मिलता है। दोस्तों असली गुड हमेशा डार्क कलर में होता है तो आप उसे खा सकते है लेकिन सफ़ेद गुड नही खाना है। ये सारी चीजे शरीर में एसिड बढ़ाने वाली चीजे है।

सबसे ज्यादा एसिड जिस चीज को खाने से बनता है वो है refine आयल। इसको तो आप सबसे पहले अपने घर से बाहर निकाले। अब आप पूछोगे कि कौनसा तेल खाए? दोस्तों आपको कौनसा तेल खाना चाहिए इस विषय पर हमने पहले से ही लेख लिखा हुआ है जिसको आप सर्च करके पढ़ सकते हैं।

इसके अलावा खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीने से भी पेट में एसिड बनता है और अन्य बिमारिया भी होने लगती है। तो आप इस बात का भी ध्यान रखे। दोस्तों ऐसे तो बहुत सी चीजे है जिनमे एसिड की मात्रा पाई जाती है लेकिन घरो में सबसे ज्यादा प्रयोग की जाने वाली चीजे ये ही है। इसलिए आपको यह बताना बहुत जरुरी था।

तो ये सारा खेल है हाई ब्लड प्रेशर का। अब लोग दवा पे दवा खाते रहते है ये सोचकर कि हमारी समस्या इन दवाओं से ठीक हो जायेगी पर जब तक आप बीमारी या समस्या की जड़ को ही उखाड़ कर ना फेकेंगे तब तक आपका रोग पूर्ण रूप से ख़त्म नही हो सकता।

दोस्तों हाई ब्लड प्रेशर होने का कारण तो आपने जान लिया है कि यह किस वजह से होता है। अब हम आपको इसके उपचार के बारे में बताने जा रहे है जिससे कि रोग जल्द और पूर्ण रूप से नष्ट हो सके।

जब भी आपका ब्लड प्रेशर हाई होने लगे तो आप ऐसी चीजे खाइए जिसमें क्षारपन ज्यादा हो। जब हम भोजन करते है तो उसमे दो प्रकार के तत्व पाए जाते है एक तो क्षार तत्व और दूसरा अम्ल तत्व। इन अम्ल और क्षार दोनों तत्वों का हमारे शरीर में बेलेंस होना बहुत जरुरी है। इन दोनों के सही बेलेंस से ही हमारा शरीर स्वस्थ रहता है।

दोस्तों आपको मालूम होगा कि अम्ल और क्षार को एक दूसरे में मिलाते है तो क्या होता है?

न्यूट्रलाइज होता है और हमारे शरीर में भी ऐसा ही सेम प्रोसेस है।

अगर अम्ल शरीर में अधिक बढ़ रहा है तो आप अम्लीय चीजो को तो तुरंत खाना बंद कर दीजिये जो कि अभी थोड़ी देर पहले हमने आपको बताया था और अम्ल बढ़ने पर ज्यादा से ज्यादा क्षारीय चीजो का सेवन करिए जिससे कि आपकी बॉडी न्यूट्रलाइज हो सके और आपका अम्ल तत्व बेलेंस में आ सके।

अब आप यह सोच रहे होंगे कि आखिर ये क्षारीय चीजे कौन कौन सी है। दोस्तों अम्ल और क्षार को आप ऐसे समझें कि जिन भी फलो और सब्जियों में रस है वो सब अम्लीय चीजे है और जिन सभी फलो और सब्जियों में रस नही है वो सब क्षारीय है। जैसे कि सेब, केला, अमरुद, पालक, बेंगन, गाजर, मेथी, लोकी ये सब क्षारीय है जिनमें रस नही है वो सब चीजे छारिये आप इस बात को याद रखिये। तो ज्यादा से ज्यादा इन चीजो का सेवन करिए ताकि आपको इस समस्या से जल्दी निजात मिल सके। साथ ही हाई ब्लड प्रेशर होने पर आप ये उपाय भी कर सकते है।

दोस्तों खून में बढे हुए अम्ल को जल्दी कम करने के लिए आपको ये प्रयोग जरुर करना चाहिये

लोकी का जूस।लोकी सब्जियों में सबसे ज्यादा क्षारीय है और इसका सेवन अगर आप रोज सुबह खाली पेट जूस के रूप में करेंगे तो आपकी हाई बीपी समस्या जल्द ख़त्म जो जायेगी। बस रोज आपको एक गिलास लोकी का जूस निकालकर पीना है। इस लोकी के जूस को और अधिक शक्तिशाली बनाने के लिए आप इसमें 7 से 8 तुलसी के पत्ते ,7 से 8 पुदीना के पत्ते, और आधा चम्मच सेंधा या काला नमक मिलाकर सबको पीस ले और छानकर सुबह के समय खाली पेट इसको पिए।

दोस्तों यह जूस केवल आपकी बीपी को ही सही नही करेगा बल्कि ये आपके खून में जमें गंदे कोलेस्ट्रोल को भी बहार करेगा, आपका हार्ट मजबूत करेगा, आपकी हार्ट की सारी ब्लोकेज दूर करेगा, ट्राईग्लीसराइड को ठीक करेगा और साथ ही आपका मोटापा भी कम करेगा। तो आप इसका सेवन जरुर कीजिये।

कितने दिन तक करना है ?

दोस्तों 1 महीने तक आप इस जूस का सेवन कीजिये और अगर आप और ज्यादा लेना चाहते है यानि 2 महीने 3 महिने तो आप ले सकते है। इसके कोई साइड इफ़ेक्ट नही है पर कम से कम 1 महीने तक तो आपको इसे जरुर पीना है इसका ध्यान रहे।

हाई बीपी को ख़त्म करने के लिए और भी कारगर घरेलु नुस्खे हमारे पास मोजूद है जो कि श्री राजीव जी द्वारा बताये गये है। हाई बीपी होने पर आप इन नुस्खो का भी इस्तेमाल कर सकते है।

दोस्तों रात को सोने से पहले एक गिलास गरम पानी में आधा चम्मच मेथी दाना भिगो कर रख दे और सुबह उठ कर वह पानी पिये और मेथी के दाने चबा चबा कर खाये। इस उपाय से उच्च रक्तचाप हाई बीपी की समस्या जल्दी कम हो जाती है।

दूसरा उपाय – कच्चे लहसुन की 2 कली को पीसकर उसकी चटनी बनाये और सुबह खाली पेट इसे चाटे। इस प्रयोग से उच्च रक्तचाप सामान्य हो जाता है।

तीसरा उपाय – सोफ़, जीरा, और मिश्री तीनो को बराबर मात्रा में मिलाकर बारीक़ चूर्ण बनाये फिर सूबह शाम एक चम्मच सादे पानी से ले आपका बीपी एक दम सही हो जाएगा,दोस्तों हाई बीपी में आवले का रस सबसे अधिक लाभकारी है आप चाहे तो इसका मुरब्बा भी ले सकते है। ये आपके बढे हुए ब्लड प्रेशर को बहुत ही जल्दी सामान्य कर देगा।

तो दोस्तों आप इन नुस्खो में से कोई भी एक या दो नुस्खे अपनाकर हाई बीपी की समस्या से हमेशा के लिए निजात पा सकते है और साथ ही लेख के शुरू में बताये कारणों पर भी जोर दे तभी आपकी यह समस्या जड़ से ख़त्म हो पायेगी।

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इस लेख को जरुर शेयर कर दीजिये ताकि सब लोगो तक यह जानकारी पहुँच सके और वो अपना उपचार स्वयं कर सके। धन्यवाद !