पिम्पल(Pimple problem)को ठीक करने के 9 बेहतरीन आसान उपाय

35
पिम्पल(Pimple problem) क्यों होते है?

आजकल युवा पिम्पल की समस्या (Pimple problem)से ज्यादा परेशान हैं। इनसे निजात पाने के लिए वो हर संभव नुस्खा और इलाज अपनाते हैं। पिम्पल्स वो स्किन से संबंधित वो अवस्था है जिसमें चेहरे पर काले या लाल रंग के दाने जैसे हो जाते हैं और जब उन्हें दबाया जाता है तो सफेद रंग का कुछ निकलता है। इन्हें दबाना ठीक नहीं होता क्योंकि इसके बाद चेहरे पर गहरे दाग-धब्बे बन जाते हैं जिनसे छुटकारा पाना और भी मुश्किल हो जाता है।

1.यदि त्वचा प्रदूषण और धूल मिट्टी के ज्यादा संपर्क में रहती है, तो इस वजह से चेहरे पर गंदगी जम जाती है और फिर कील-मुंहासे हो जाते हैं। इसलिए कोशिश करें कि बाहर जाते समय चेहरे को अच्छी तरह से ढंककर चलें और रोजाना चेहरे की साफ सफाई करें।

2. ज्यादा कॉफी या चाय पीने से शरीर में सीबम ऑइल बनने लगता है जो बाद में चेहरे पर मुंहासे आने का कारण बन सकता हैं।

3.पिंपल्स होने की बड़ी वजहों में से एक है जंक फूड और तले-भुने भोजन का अधिक सेवन। ऐसे भोजन से त्वचा ऑयली हो जाती है और कील-मुंहासों और पिंपल्स को पैदा करती है।

4. कई बार दवाईयों के ज्यादा सेवन व हार्मोन में बदलाव के कारण भी पिंपल्स हो जाते हैं।

5. कई बार अनुवांशिक कारणों से भी पिम्पल हो जाते है।

6. कई बार चेहरे को बार-बार साबुन से धोने पर भी पिम्पल निकल आते है क्योंकि बार-बार चेहरा धोने के कारण ड्राय हो जाता है

7.कई बार खान-पान ठीक से ना होने या पेट संबंधी किसी दिक्कत के चलते हमें कब्ज की समस्या हो जाती है। इस कारण हमारे शरीर के विषाक्त तत्व बाहर नहीं निकल पाते। इस दौरान ये विषाक्त तत्व हमारे स्किन पोर्स को बंद कर देते हैं। जिस कारण हमारी त्वचा सांस नहीं ले पाती और उसमें बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। जो पिंपल के रूप में हमें नजर आते हैं।

8. स्ट्रेस यानी तनाव के कारण पिंपल हो जाते है तनाव से हार्मोन इन बैलेंस हो जाते है और फिर पिम्पल निकल आते है।

पिम्पल्स के प्रकार:-
कई प्रकार के होते हैं पिंपल्स
हम पिंपल्स को केवल पिंपल्स के नाम से जानते हैं लेकिन शायद ही कभी एक इस बात पर गौर करते हैं कि पिंपल्स भी अलग-अलग तरह के होते हैं। जैसे दाना या फुंसी ब्लैकहैड्स, वाइट हैड्स, पेपुल्स, पुटी या गांठ और नेड्यूल्स।
दाना या फुंसी पिम्पल :- ये लाल रंग के और साइज में छोटे या बड़े दाने हो सकते हैं। शुरुआत में ठोस होते हैं और इनमें दर्द और दुखन भी बहुत होते हैं। कुछ दिन बाद इनकी रेडनेस कम हो जाती है और इनमें पस भर जाता है।
ब्लैकहैड्स:- ब्लैक हेड्स आमतौर पर काले रंग के हल्के सख्त और लंबे रेशे होते हैं, ये त्वचा की ब्लैकनेस बढ़ाते हैं।
पेपुल्स:- पेपुल्स का रंग हल्का गुलाबी से लेकर गहरा लाल तक हो सकता है। ये किसी कीड़े के काटने या त्वचा संबंधी किसी समस्या के कारण हो सकते हैं। आमतौर पर ये बहुत ही सेंसटिव और पेनफुल होते हैं।
नोड्यूल्स:- नोड्यूल्स उन पिंपल्स को कहा जाता है, जो हमारी स्किन के ऊपर की तरफ होने के बजाय अंदर की तरफ होते हैं। ये आकार में दूसरे पिंपल्स से कुछ बड़े, कठोर और हल्के से टच से भी दर्द देने वाले हो सकते हैं।
पुटी, सिस्ट या गांठ:- पिंपल्स में भी सिस्ट या गांठ एक प्रकार होता है। इसमें सूजन भी होती है और घाव भी। ये काफी दर्द देने वाले और पस भरे होते हैं।

पिम्पल्स को ठीक करने के रामबाण उपाय:-

1. ऐलोवेरा- वर्तमान दौर में त्वचा की खूबसूरती से सम्बंधित कोई भी बात एलोवेरा के बगैर अधूरी है। ये पिंपल्स से निजात दिलाने का भी अचूक उपाय है। एलोवेरा का एक टुकड़ा पौधे से काट कर लाऐ और चाकू की मदद से हरे हिस्से को काट कर बिच में से निकलने वाले जेल को पिंपल्स के ऊपर लगा कर सूखने तक छोड़ दें फिर साफ़ पानी से धो लें।
2. मुल्तानी मिटटी- दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी को एक चम्मच गुलाब जल और कुछ बूंदें नींबू के रस को मिलाकर हल्के पानी की मदद से पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को पिंपल्स अथवा पुरे चेहरे पर लगा कर 10 से 15 मिनट रख कर साफ़ पानी से धो लें। इस उपाय से पिंपल्स में बहुत आराम मिलता है, क्योंकि मुल्तानी मिट्टी के प्रयोग से त्वचा साफ़ हो जाती है और त्वचा का अतिरिक्त तेल भी निकल जाता है।
3. नींबू- नींबू हमारे रसोई घर का अभिन्न अंग है, जिस तरह खाने में स्वाद की खूबसूरती नहीं आती उसी तरह नींबू के रस के बिना चेहरे की खूबसूरती अधूरी है। नींबू का रस अपने पिम्पल्स और उनके दागों पर अच्छे से लगा ले और 30 मिनट बाद साफ़ पानी से धो लें।
4. नीम- जैसा की सब जानते हैं की नीम सभी प्राकृतिक औषधियों में सबसे उत्तम है। त्वचा के लिए नीम बहुत उपयोगी होता है। नीम की पत्तियों को पीसकर एक साफ़ कपड़े से निचोड़ कर जूस निकल लें। यह जूस चेहरे पर लगाने के कुछ देर बाद चेहरा साफ़ पानी से धोने से पिंपल्स में राहत मिलती है। ऐसा नियमित करने से पिंपल्स पूरी तरह ख़त्म हो जाते है और कोई दाग-धब्बे भी नहीं रहते।
5. जीरा- एक या दो चम्मच जीरे को पानी के साथ पीस कर पेस्ट बना लें और इस पेस्ट को चेहरे पर दिन में 1 बार लगाएं फिर एक घंटे बाद चेहरा साफ पानी से धो लें। यह नुस्खा पिंपल्स को ठीक करने में बहुत सहायक है।
6. लहसुन- अति गुणकारी लहसुन की 3-4 कलियों को 2-3 लौंग के साथ पीसकर पिंपल्स पर लगाएं और कुछ देर रखने के बाद गुनगुने पानी से धो लें। इस उपाय से पिम्पल्स से काफी हद तक आराम मिलता है।
7. हल्दी- हल्दी एंटीबैक्टीरियल तत्वों का अदभुत स्त्रोत है। त्वचा की खूबसूरती बढ़ाने तथा त्वचा सम्बन्धी रोगों से छुटकारा पाने के लिए हल्दी का प्रयोग निःसंकोच किया जाता है। थोड़ी सी हल्दी को पानी या दूध में मिलाकर पिंपल्स पर लगाईए और फिर 10 मिनट बाद साफ पानी से धो लीजिए ऐसा नियमित करने से निश्चित तौर पर पिंपल्स से छुटकारा मिल जाएगा।
8. टी ट्री ऑइल- पिम्पल्स के लिए एक अन्य लोकप्रिय प्राकृतिक उपचार टी ट्री आयल है। टी ट्री आयल एक एंटीसेप्टिक की तरह कार्य करता है।
इसके अलावा, यह पिम्पल पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मारने में मदद करता है। जहाँ पर पिम्पल है वहां पर दिन में तीन बार चाय के पेड़ के तेल की एक बूंद लगाएं।
9. मैथी- मेथी को अपने सूजन को कम करने, एंटीऑक्सिडेंट और एंटीसेप्टिक गुणों के कारण पिम्पल के उपचार में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। पानी के साथ ताजा मेथी के पत्ते मिक्स कर एक चिकना पेस्ट बनाएं। प्रभावित क्षेत्र पर हर्बल पेस्ट को लगाएं और 10 से 15 मिनट के लिए इसे लगाकर छोड़ दें। फिर गर्म पानी से अपना चेहरा धो लें। पिम्पल्स को ठीक करने के लिए, तीन से चार दिनों के लिए यह प्रक्रिया दोहराएं।
इस पोस्ट के जरिये हमने आपको बहुत ही आसान और सरल उपाय बताए है जिन्हें करने पर निश्चित तौर पर आप के पिम्पल्स ठीक हो जायेगे। और आप चेहरा साफ और सुन्दर हो जायेगा।

⇒एलोविरा जेल बनाने का सबसे आसान फार्मूला – Simple Formula to Make Aloe Vera Gel.⇐click करें