मधुमेह (Diabetes) को ठीक करने के 11 बेहतरीन उपाय

120

मधुमेह (Diabetes)ठीक करने के आसन घरेलू उपाय-

आजकल मधुमेह (Diabetes) की बीमारी आम बीमारी है। जब किसी व्यक्ति को मधुमेह की बीमारी होती है। इसका मतलब है वह व्यक्ति दिन भर में जितनी भी मीठी चीजें खाता है (चीनी,मिठाई,शक्कर,गुड़ आदि )वह ठीक प्रकार से नहीं पचती है अर्थात उस व्यक्ति का अग्नाशय उचित मात्रा में उन चीजों से इन्सुलिन नहीं बना पाता इसलिए वह चीनी तत्व मूत्र के साथ सीधा निकलता है।

इसे पेशाब में शुगर आना भी कहते है। जिन लोगों को अधिक होती है। जिन लोगों को अधिक चिंता,मोह,लालच,तनाव में रहते है। उन लोगों को मधुमेह की बीमारी अधिक होती है। मधुमेह रोग में शुरू में तो भूख बहुत लगती है लेकिन धीरे-धीरे भूख कम हो जाती है।

शरीर सूखने लगता है,कब्ज की शिकायत रहने लगती है।अधिक पेशाब आना और पेशाब में चीनी आना शुरू हो जाती है और रोगी का वजन कम होता जाता है। शरीर में कही भी जख्म या घाव होने पर वह जल्दी नहीं भरता है।

⇒Diabetes को जड़ से ख़त्म कर देंगे यह 3 नुस्खे । 3 Most Effective Home Remedies To Cure Diabetes⇐click करें 

 

इस बीमारी के घरेलू उपचार निम्न है –

1.जामुन मधुमेह के रोगी के लिए सर्वोत्तम दवाई है सीधे जामुन खाना लाभदायक तो है ही,लेकिन जामुन की गुठली का चूर्ण ताजे पानी के साथ दिन में 2-3 बार लेने पर में बहुत लाभकारी होता है। इसके साथ जामुन के हरे पत्तों की चटनी बनाकर 1 ग्लास पानी में प्रतिदिन पिने से लाभ होता है।

2.टमाटर का सूप या कच्चे टमाटर का रस मधुमेह diabetes में लाभकारी है। पान के साथ चार रत्ती बंग भस्म लेने से मधुमेह दूर होता है। प्रात:काल 20 ग्राम गिलोय का रस बराबर मात्रा में शहद के साथ मिलाकर लेने से बीमारी में लाभ मिलता है।

3.प्रतिदिन रात्रि विश्राम से पहले शहद के साथ त्रिफला चूर्ण लेने से लाभ होता है।जौ और चने को बराबर मात्रा में लेकर आटा बनाकर नियमित रूप से उसकी रोटी बनाकर खाने से मधुमेह में लाभ होता है।

4.आंवले का काढ़ा बनाकर और उसमे हल्दी एवं शहद मिलाकर पिने से मधुमेह की बीमारी में आराम मिलता है। नागोरी+असगंध +विधरा इन तीनों को बराबर मात्रा में मिलाकर पाउडर बनालें और प्रतिदिन मिश्री मिले हुयें गाय के दूध के साथ सेवन करने से मधुमेह का रोग खत्म होता जाता है।

5.प्रतिदिन आधा कप मेथी का रस पिने से मधुमेह का रोग ठीक हो जाता है,उसके साथ-साथ हरी मैथी की सब्जी तथा मैथी के हरे बीजों की सब्जी दोनों ही इस रोग के लिए रामबाण ओषधियाँ है। खाने में नियमित रूप से मुली का सेवन करें अथवा मुली,गाजर और पालक तीनो का रस निकालकर उसमे थोडा नमक और जीरा डालकर प्रतिदिन पिने से आराम मिलेगा।

6.प्रात:काल खाली पेट ताजे और कोमल बेल पत्रों का रस निकालकर दो-तीन चम्मच पिने से रोग में काफी आराम मिलता है। प्रात:काल खाली पेट करेले का रस और बेल की पत्तियों का रस मिलाकर उसमे चुटकी भर काली मिर्च और भुना हुआ जीरा और 2-3 चम्मच शहद मिलाकर शरबत जैसा पीने पर आराम मिलता है।

7. 100 ग्राम बरगद के पेड़ की छाल 2 लिटर पानी में पकाएं और जब पानी एक-चोथाई रह जाए तब ठंडा करके छानकर रोगी को पिलायें,रोग में तत्काल आराम मिलेगा।

8. जामुन की गुठली का चूर्ण +सौंठ+गुडमार बूटी इन तीनों को बराबर मात्रा में पीसकर कपड़े से छान लें फिर ग्वारपाटे के रस में चटनी जैसा बनाकर शहद के साथ चाटें। सुबह-सुबह खाली पेट 10-12 कोमल नीम की पतियाँ चबायें।

9.पीसी हुई हल्दी शहद में मिलाकर चाटने से इस रोग में आराम मिलता है। कच्चे केले की सब्जी खाने से मधुमेह दूर होता है। त्रिफला चूर्ण में मैथी के दानों का चूर्ण बराबर मात्रा में मिलाये और प्रतिदिन प्रात:काल 2 चम्मच चूर्ण गुनगुने जल के साथ सेवन करें।

10. गिलोय +आंवला तथा गोखरू तीनों को बराबर मात्रा में मिलाकर पाउडर बनाएं इसमें से 2-2 चम्मच चूर्ण प्रतिदिन 3 बार शहद के साथ सेवन करें। करेले के पत्तों का रस प्रतिदिन लेने से मधुमेह में आराम मिलता है।

11.कच्चा टमाटर और टमाटर की चटनी मधुमेह के रोगियों के लिए काफी लाभदायक है।टमाटर की खटाई शर्करा की मात्रा को घटाती है।

⇒खाली पेट ये 8 एसिडिक (Acidic things)चीजे हमेशा React करती है,इनसे बचे⇐click करें