मुँह के छालों (Mouth ulcers)को करें जड़ से खत्म

48

मुँह के छालों(Mouth ulcers) की समस्या –

सुनने और बताने में यह एक सामान्य रोग लगता है, लेकिन यह होते किस कारण से है शायद ही किसी को पता हो जानकारी के अनुसार अक्सर कुछ उल्टा-सीधा खाने या पेट में गर्मी के कारण मुंह में छाले(Mouth ulcers) हो जाते हैं, जिससे न केवल खाने-पीने में बल्कि बार-बार जीभ लगने से उसमें दर्द होता है।
मुंह के छाले(Mouth ulcers) महिलाओं में अधिक रूप से होते हैं लेकिन यह वयस्कों और बच्चों को भी प्रभावित कर सकते हैं। मुँह में छाले होने का मतलब है पेट का सही ढंग से साफ नहीं होना या कब्ज रहना। जब हम कुछ ऐसी चीजों का सेवन कर लेते है जो हमारे पाचन तन्त्र को प्रभावित करती है।
जिससे हमारे खाने का पाचन सही ढंग से नहीं होता है और इसी कारण पेट में गैस और एसिडिटी की समस्या हो जाती है और फिर होते है मुँह में छाले। ये छाले तब तक रहेंगे जब तक हमारे पाचन तन्त्र में पाचन ठीक से नहीं होता है। और पेट का साफ रहना भी बहुत जरूरी है। पेट साफ नहीं होगा तो ये छाले बार-बार हो जायेंगे।
मुँह में छाले होने के और भी कारण है पर ज्यादातर इसी कारण होते है। कई बार खाना खाने पर मुँह में छाले हो जाते है और अगर किसी व्यक्ति के मुँह में छाले हो जाए तो कोई भी चीज खाने में काफी परेशानी होती है। लेकिन कुछ समय बाद मुँह के छाले अपने आप ठीक हो जाते है। और अगर मुँह में छाले होते है और जल्दी ठीक नहीं होते है तो ये एक बड़ी बीमारी का संकेत हो सकता है। मुँह में छाले होने पर तेज जलन और दर्द होता है, कुछ भी खाना या पीना मुश्किल हो जाता है। कुछ लोगों को तो भोजन नली तक में छाले हो जाते हैं।
मुँह में छाले होना एक सामान्य तकलीफ है कुछ लोगों को ये छाले बार-बार होते हैं और परेशान करते हैं। ऐसे लोगों को अपनी पूरी डॉक्टरी जाँच करानी चाहिए, ताकि उनके कारणों का पता लगाकर उचित इलाज किया जा सके। मुँह में छाले होने के कोई एक नहीं, अनेक कारण हैं। जरूरी नहीं कि जिस कारण से किसी एक को छाले हुए हों,
दूसरे व्यक्ति को भी उसी कारण से हों। कई बार पेट की गर्मी से भी छाले हो जाते हैं। अत्यधिक मिर्च-मसालों का सेवन भी इसके लिए जिम्मेदार होता है, क्योंकि यदि पेट की क्रिया सही नहीं है, तो उसकी प्रतिक्रिया मुँह के छाले के रूप में प्रकट होती है।

मुंह के छालों के कारण

1.आयुर्वेद के अनुसार मुँह में छाले पेट की खराबी तथा पेट की गरमी की वजह से होते हैं। बदहजमी इसका मूल कारण है।
2.दैनिक जीवन की मामूली गलतियों से लेकर गंभीर बीमारियों के कारण।
3.आमतौर पर मुंह के छाले विकसित हो सकते हैं, अगर बोलने या खाना खाने में आपके होंठ, जीभ या गाल कट जाये।
4. अत्यधिक गर्म चीज खाने या पीने से मुंह जल जाये।
5.अत्यधिक रगड़ कर दांत साफ करना या कड़े ब्रश वाले टूथब्रश इस्तेमाल करना।
6. बैक्टीरिया, वायरस और फंगस का संक्रमण।
7. कॉफी का अधिक मात्रा में सेवन।
8. तंबाकू, पान या गुटखा आदि का सेवन।
9. तनाव या इम्यून तंत्र का कमजोर होना : कभी-कभी, मुंह में छाले कुछ मामलों में प्रतिक्रिया स्वरूप भी हो सकते हैं, जैसे-
दवाइयों के साइड इफेक्ट्स, रेडिएशन, ऑटो इम्यून डिसआर्डर, तनाव या किसी बीमारी के कारण इम्यून तंत्र कमजोर हो जाने से भी समस्या होती है. इनके अलावा कुछ अन्य कारण भी हो सकते हैं- हार्मोन के स्तर में परिवर्तन, विटामिनों की कमी (जैसे- फोलेट, बी12 और विटामिन सी), आंतों से संबंधित समस्याएं, जैसे- क्रोहन डिजीज या इरिटेबल बाउल सिंड्रोम (आइबीएस)
मुंह के छालों का इलाज करने के लिए रामबाण उपाय-
1. ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी का सेवन कीजिए, इससे पेट साफ होगा और मुंह के छाले नहीं होंगे।
2. छाछ से दिन में तीन से चार बार कुल्ला करें ऐसा करने पर मुंह के छाले ठीक होते हैं।
3. खाना खाने के बाद गुड का सेवन करें ऐसा करने से छालों में राहत मिलते है।
4. मेंहदी और फिटकरी का चूर्ण बनाकर छालों पर लगाएं, इससे मुंह के छाले समाप्त होते हैं।
5. मुंह में लौंग का तेल लगाना चाहिए।
6. सुहागे को तवे पर फुला कर व पीसकर थोड़े से शहद में मिला लें। इस मिश्रण को छालों पर दिन में तीन-चार बार लगाएं। मुंह के छाले ठीक हो जाएंगे।
7. हल्दी को पानी में मिलाकर पेस्ट बना लें और उसे अपने छालों पर लगाएं। हल्दी एंटीसेप्टिक और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण से भरपूर होती है जो छालों को न सिर्फ ठीक करता है बल्कि दोबारा होने से भी रोकती है।
8.टमाटर का रस एक गिलास पानी में मिलाकर कुल्ले करने से छाले मिट जाते हैं।
9. सूखा खोपरा खूब चबा-चबाकर खाएं, चबाने के बाद पेस्ट जैसा बनाकर मुंह में ही कुछ देर रखें, फिर पूरा खा ले। ऐसा दिन में तीन-चार बार करें, छाले दो दिन में दूर हो जाएंगे।
10.मुंह के छाले या जुबान पर छाले होने के लिए शरीर में बढ़ने वाली गर्मी जिम्मेदार होती है। ऐसे में कोशि‍श करें कि दिनभर में हर थोड़ी-थोड़ी देर में पानी पीते रहें, ताकि शरीर का तापमान नियंत्रित रहे।
11. नीम के पत्ते उबाल लें। इसमें लहसुन के रस की चार-पांच बूंद डालकर इससे गरारे करने चाहिए
12.नारियल पानी ना केवल हमारे शरीर बल्की मुह के छाले में भी लाभदायक है। नारियल के भीतर पाए जाने वाली तरल को पिने से पेट ठंडा रहता है जिससे छाला जैसी समस्या नहीं होती।
13. 2-3 चम्मच एलो वेरा जूस का माउथवाश के रूप में इस्तेमाल करने से मुँह के छालों में काफी आराम मिलता है।
14.दूध ठंडा होने से जलन कम करता है। छालों के हीलिंग में भी मदद करता है। ठंडे दूध में रूई भिगोंकर प्रभावित जगह पर लगाने से फायदा होगा।

⇒सिर्फ एक दिन और पूरा पेट साफ़-Just one day and full stomach clean⇐click करें