असमय सफेद हुए बालों(Premature graying of hair)को काला करते है यह उपाय !

48

असमय बाल सफेद (Premature graying of hair)क्यों होते है?

बढ़ती उम्र के साथ बालों का सफेद (Premature graying of hair)होना स्वाभाविक है। लेकिन कम उम्र में ही बाल सफेद(Premature graying of hair)होने से पूरे व्यक्तित्व का आकर्षण खत्म हो जाता है। हमारे बालों की जड़ों में पाई जाने वाली सेबेक्वस ग्रंथियो मे Sebum नाम का तैलीय तत्व निकलता है,
जिससे बालों का रंग निर्धारित होता है। यही तत्व बालों को पोषण भी देता है। सेबेक्वस ग्रंथियों की कार्यक्षमता कम हो जाती है। और बाल सफेद होने लगते हैं। अधिकांश पुरुषों के बाल 35 से 40 वर्ष की उम्र में कानों के आसपास सफेद होने लगते हैं और 50 की उम्र तक ज्यादातर बाल सफेद हो जाते हैं। इसलिए चालीस वर्ष की उम्र के बाद बाल सफेद होना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। लेकिन कम उम्र में बालों का सफेद होना एक बीमारी है।
असमय बाल सफेद होने के प्रमुख कारण है। बालों में तेल न लगाना, खराब गुणवत्ता और अधिक केमिकल युक्त साबुन या शैम्पू और हेयर कलर,हेयर डाई का इस्तेमाल करना। काफी लोगो में असमय बाल सफेद होने की समस्या अनुवांशिक होती है। अगर किसी के परिवार में पीढ़ी दर पीढ़ी बाल उड़ने या सफ़ेद होने की बीमारी है तो यह भी एक कारण होता है बाल सफ़ेद होने का और इसका इलाज भी मुश्किल होता है।
अधिक समय तक जुकाम रहना, या थायरायड ग्रंथि से स्त्राव से असमय बाल सफेद होने लगते है। पौष्टिक आहार न लेना, अधिक मात्रा में फास्ट फूड खाना भी असमय बाल सफेद होते है। अलग-अलग ब्रांड के कॉस्मेटिक्स जैसे शैम्पू ,जेल का इस्तेमाल करने से भी असमय बाल सफेद होते है। असमय बाल सफेद होने के शारीरिक कारणों में आता है।
कुपोषण, एनीमिया, शरीर में आयरन, विटामिन 12 की कमी होना, असंतुलित हार्मोन, हमेशा बीमार रहना, नियमित रूप से दवाओं का इस्तेमाल करना, अधिक चिंता करना, मानसिक तनाव, नींद की कमी, उच्च रक्त चाप, निराशा, बालों में डेंड्रफ होना आदि भी असमय बाल सफेद होने का कारण बनते है।
खाने के प्रति की जानेवाली लापरवाही, जैसे ज्यादा मिर्च मसालेदार चटपटा आहार का अधिक सेवन, पापड़, अचार आदि का सेवन, शरीर में पानी की कमी, स्निग्ध पदार्थ जैसे शुद्ध घी का भोजन में बिलकुल प्रयोग न करना, गर्भावस्था में संतुलित आहार के अभाव में बालों पर बुरा प्रभाव पड़ता है।
शरीर में विटामिन्स के अभाव में बालों को हानि पहुँचती है। आहार के अलावा ज्यादा परिश्रम, डायटिंग, बालों की उचित देखभाल न करना, कुछ औषधियाँ जैसे पेन किलर दवाइयों का लंबे समय तक प्रयोग, कुछ बीमारियाँ जैसे मानसिक तनाव, श्वेतप्रदर रोग, क्रोध, शोक, चिंता, जलवायु परिवर्तन, प्रदूषण, कुछ रसायनों के संपर्क में बालों का आना, किसी चीज से एलर्जी होना भी ऐसे कारण हैं जिससे असमय बाल सफेद होने लगते हैं।
बालों के सफ़ेद होने का एक कारण शरीर में मेलेनिन की कमी होता है। जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारे शरीर में मेलेनिन की मात्रा कम होने लगती है मेलेनिन का उत्पादन पोषण और प्रोटीन पर भी निर्भर करता है। इनकी कमी से भी मेलेनिन की भी कमी हो जाती है।
इतने सारे कारणों को देखकर आप घबराए नही, सभी व्यक्तियों में यह कारण अलग अलग हो सकते है या आप ऐसा भी समज सकते है की असमय बालों का सफेद होने का कोई केवल एक ठोस कारण नही हो सकता। सब व्यक्तियों में अलग अलग कारण देखने को मिल सकते है। यहाँ बताये कारणों में से आप देखिये की आपकी दिनचर्या में कहा पर गड़बड़ है।
उस कारण को पहले ठीक कीजिए उसके बाद ही निचे दिए जा रहे उपाय को कीजये। तभी आपको पूर्ण लाभ मिल पायेगा बिना कारण ठीक किये केवल किसी उपाय से या किसी बड़े कम्पनी के ब्रांड प्रोडक्ट को इस्तेमाल करके आपकी बालों की समस्या कभी भी जड़ से ठीक नही हो सकती। केवल उपाय करने तक या कोई भी प्रोडक्ट इस्तेमाल करने तक ही वो आपको फायदा करेगा उसके बाद फिर से वही समस्या आपको होगी

असमय सफेद बालों को काला करने के उपाय-

(परीक्षित प्रयोग)
नारियल,एलोविरा,प्याज तेल- 50 ग्राम नारियल का शुद्ध तेल लेकर किसी बरतन में पकाए उसमे एक एलोविरा(ग्वारपाठा) की पत्ती लेकर उसके छोटे छोटे पीसेस काट ले …उन कटे हुए टुकडो को … 50 ग्राम नारियल तेल में डालकर पकाए…जब तक पकाए तब तक की डाले गये ऐलोविरा के टुकड़े पूरी तरह से भूरे(ब्राउन) नही हो जाए..
.पूरी तरह से भूरे होने के बाद उन्हें ठंडा होने दे और फिर किसी कांच के बर्तन में डालकर रख लें. और रोज रात में 2 चमच तेल में 1 प्याज का ताजा रस निकालकर अच्छे से मिलाये आप चाहे तो तेल को थोडा गर्म कर सकते है, गर्म तेल में प्याज का रस अच्छे से मिल जाता है, अच्छे से मिक्स करने के बाद बालों की जड़ो में अच्छे से इसे लगाये आप चाहे तो तेल की मात्रा बढा भी सकते है…याद रहे 2 चम्मच तेल में 1 चमच्च प्याज का रस होना चाहिए इसी अनुपात में आप मात्रा बढ़ा सकते है…वो बालों पर निर्भर करता है की बाल कितने बड़े है
नारियल तेल- नारियल तेल 50 ग्राम  के अन्दर एक मुट्टी कढ़ी पत्ते इन दोनों को मिलाकर पकाएं। जब तेल अच्छे से पक जाए, और तेल का रंग थोड़ा बदल जाए, तो कढ़ी पत्ते को अलग कर लें। इस तेल से अपने बालों की मालिश करें। यह बालों को काला करने में असरकारक होता है।
भृंगराज तेल-सफेद बाल को काला करने के लिए भृंगराज तेल से बालों की मालिश के लिए इस्तेमाल करें। भृंगराज में बालों को काला करने की क्षमता होती है।
गुडहल-आंवला, गुड़हल और तिल का पेस्ट बना लें। इसमें नारियल तेल की कुछ बूंदें मिलाकर स्कैल्प पर मालिश करें।
तुलसी के पत्ते- तुलसी की पत्ती, आंवले का फल या पत्ते का रस, भंगरैया के पत्ते का रस को समान मात्रा में लें। इसे मिलाकर बालों में अच्छे से लगाएं। इससे बाल काले और घने होंगे।
इन्द्रायण-इन्द्रायण के बीजों के तेल से रोज सिर पर मालिश, और लेप करें। इससे बालों का गिरना बंद हो जाता है। इससे बाल काले भवरे के समान हो जाते हैं।
नींबू -15 मि.ली. नींबू का रस और 20 ग्राम आंवले के चूर्ण को 15 मि.ली. जल में मिलाकर लेप तैयार करें। इस लेप को सिर पर लगाएं। एक घंटे बाद धो लें। कुछ दिन करने से ही इसके प्रयोग से बाल काले हो जाते हैं।
आंवला, आम की गुठली – एक बहेड़ा, दो हरीतकी, तीन आंवला, पांच आम की गुठली की मींगी, और 10 ग्राम लौह चूर्ण लें। इन्हें जल के साथ पीसकर एक लौहे के बर्तन में रात भर रहने दें। सुबह इससे लेप करं। इससे सफेद बालों से छुटकारा मिलता है।
काले तिल-काले तिल को दो घंटे के लिए पानी में भिगों दें। भीग जाने पर इसे पीसकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को सिर की त्वचा, और बालों पर एक घंटा लगा कर रखें। इसके बाद किसी शैम्पू से बालों को धो लें।
चाय का पानी-चाय के पानी को बालों में लगा लें। एक घंटे बाद शैम्पू का प्रयोग किए बिना सादे पानी से धो लें। इसे नियमित रूप से प्रयोग करने पर बाल काले हो जाते हैं।
गन्ने के रस –लौह चूर्ण, भृंगराज, हरीतकी, बहेड़ा, आंवला और काली मिट्टी को गन्ने के रस में भिगो लें। इसे बर्तन का मुंह बन्द करके एक महीने तक धूप में रहने दें। इसके बाद निकाल कर छान लें। इससे नियमित रूप से लेप करने से सफेद बालों से छुटकारा मिलता है। बाल काले हो जाते हैं।

खान-पान सम्बधी जरूरी बातें –

पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्वों से युक्त भोजन करें। आंवला और सभी सिट्रस(खट्टे फलों) फलों का नियमित रूप से सेवन करें। आंवला में मौजूद एंटीओक्सीडेन्ट्स सफेद बालों की कोशिकाओं में नई जान डालते हैं। इससे बालों में मजबूती आती है, और बाल काले होते हैं। मिनरल्स जैसे- आयरन, कॉपर, जिंक स्वस्थ बालों के लिए जिम्मेदार होते हैं,
इसलिए भोजन में सूखे मेवों का भी सेवन करें। विशेषकर बादाम,किशमिश, अंजीर और पिस्ता स्वस्थ बालों के लिए जरूरी है। दूध और दूध से बने उत्पादों का सेवन करें। इन खाद्य पदार्थों में पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी होता है, जो स्वस्थ बालों के लिए बेहद जरूरी होता है। कच्चा नारियल खाएं। इसमें विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, प्रोटीन और एंटीआक्सीडेंट्स पर्याप्त मात्रा में होते है। ये बालों को मजबूत और काला करते हैं।

सफेद बालों से छुटकारा पाने के लिए आपकी जीवन शैली कैसी हो-

. रोजाना प्राणायाम एवं योगासन जरुर करें।
. सुबह खुली हवा में आधे घंटे तक टहलने जरुर जाएँ।
. रात को जल्दी सोयें और सुबह जल्दी उठने की आदत डालें।
. रात को जागने की आदत को छोड़े।
. भूख लगने पर ही भोजन करें।
. अधिक धुप में न निकलें और धुल भरे वातावरण से अपना बचाव करें।
. जितना हो सके तनाव से बचना चाहिए और मेडीटेशन करें।

⇒बालों को हमेशा के लिए काला करेगा यह अद्भुत घरेलु नुस्खा – Turn White Hair Into Black Naturally⇐click करें