पथरी की समस्या से है परेशान तो करें ये आसान उपाय

1141

सबसे पहले हर बार की तरह आपको यह जानना बहुत जरुरी है कि आखिर ये पथरी की समस्या क्यों होती है? क्योकि जब तक हम कारण नही जानेंगे तब तक हमे यह भी पता नही चलेगा कि आखिर ये समस्या क्यों हो रही है और इसको जड़ से कैसे ख़त्म किया जाए। इसलिए पहले कारण जानना आवश्यक है।

पथरी को निकालने के बारे में हमने एक लेख पहले भी लिखा था। आप चाहे तो उसे भी देख सकते है उसमे हमने पथरचट्टा का प्रयोग बताया है जो की बहुत ही कारगर है। आप चाहे तो उसे भी कर सकते है उस लेख का लिंक हमने इस पोस्ट के अंत में दिया है, आप उसे भी देख सकते है।

आज का ये लेख भी पथरी के बारे में ही है। हमारे बहुत सारे दोस्तों ने हमे ये लेख लिखने के लिए प्रेरित किया है उन्होंने हमसे कहा है कि आप किडनी की पथरी निकालने के बारे में और भी ऐसे लेख लिखिए जिसमे ऐसे प्रयोग बताए हों जिससे पथरी आसानी से और जल्दी निकल सके।

तो अब शुरू करते है किडनी की पथरी निकालने के बारे में। पहले हम जानेंगे की आखिर ये समस्या क्यों होती है?

जरूरत से ज्यादा केल्शियम ओर यूरिक एसिड जब हमारे शरीर में बढ़ जाता है तो ही हमे पथरी की समस्या होती है। जब हम जरुररत से भी ज्यादा केल्शियम युक्त और प्रोटीन युक्त आहार लेते है तो ही हमे पथरी की समस्या होती है।

अब आप यह सोच रहे होंगे की आखिर ये केल्शियम युक्त आहार और प्रोटीन युक्त आहार क्या है और इनसे पथरी कैसे बनती है?

केल्शियम हमें भोजन से मिलने वाला एक ऐसा पदार्थ है जो हमारे शरीर में जाकर हड्डियों और जोडों को हेल्दी बनाए रखने में अहम रोल निभाता है। यही नहीं, इसके साथ ही यह दातों को मजबूत बनाता है और रक्त कोशिकाओं को स्ट्रॉन्ग बनाता है। ब्लड को नियंत्रित करने और डायबिटीज़ से बचाने में भी कैल्शियम महत्वपूर्ण रोल निभाता है।

जब हम ज्यादा मात्रा केल्शियम युक्त आहार लेते है तो वो केल्शियम हमारी पाचन तंत्र की खराबी के कारण पच नही पाता है और एक विषेले पदार्थ में बदल जाता है जिसके कारण ही हमें पथरी की समस्या होती है।

आपको मालूम है हमारे शरीर में जो किडनी होती है उसका काम है शरीर से विषेले तत्वों को मूत्र के रूप में बाहर निकालना। यानि जो भी भोजन हम कर रहे है उसमे से विषेले तत्वों को निकालने का काम किडनी का है। किडनी उन विषेले पदार्थो को मूत्र के रूप में बाहर निकालती है। तो जब ज्यादा मात्रा में केल्शियम हमारी किडनी में पंहुचता है तो वो मूत्र को गाढ़ा कर देता है। कम पानी पीने की वजह से उसके कण धीरे धीरे किडनी और मूत्र पिंड आदि जगह जमने लगते  है और वही केल्शियम के कण पथरी का रूप ले लेते है। बहुत देर तक टीवी देखना, असंतुलित भोजन करने से पथरी होने की संभावना बढ़ जाती है। यानि की एक जगह बेठे रहेने से भी यूरिक एसिड, केल्शियम जमने लगता है और कम मात्रा में पानी पीना भी इसकी बड़ी वजह है।

अगर आप पानी ज्यादा मात्रा में पियेंगे तो आपको पथरी कभी नही बनेगी। ज्यादा पानी पीने से हमारा मूत्र गाढ़ा नही होगा और हमे पथरी की समस्या भी नही होगी, ये एक कारण है पथरी बनने का। दूसरा कारण है प्रोटीन युक्त भोजन ज्यादा मात्रा में करना।

इसमे भी प्रोटीन न पचने की वजह से वो हमारे खून में मिलकर किडनी तक पहुचता है और खून की सहायता से ये शरीर के अन्य जगहों पर भी जमने लगता है तथा यूरिक एसिड का निर्माण करता है जिससे गठिया जैसे और भी वात रोग होने लगते है।

दोस्तों किडनी का कार्य तो आपने जान ही लिया की शरीर में खून को साफ़ करना फ़िल्टर करना ये सब किडनी का काम है। अब लोग गलती क्या करते है की पानी कम मात्रा में पीते है जिसकी वजह से ये धीरे धीरे जमने लगता है और इस कारण ही किडनी में पथरी बनती है।

और मूत्र पिंड में भी इसी गलती के कारण ही पथरी बनती है क्योकि जब किडनी हमारे सारे विषैले तत्वों को मूत्र के रूप में बाहर करती है तो वो सारे विषेले तत्व मुत्रपिंड में चले जाते है और समय पर पेशाब न जाने की वजह से ये विषेले तत्व वहा पर भी जमने लगते है और पथरी का निर्माण करते है। इसलिए पेशाब को कभी नही रोकना चाहिए।

पथरी में आपको एक बात का सबसे ज्यादा ध्यान रखना है, वो ये कि आपको पानी ज्यादा पीते रहना है। कम से

कम एक दिन में 8 से 10 गिलास पानी आपको जरुर पीना है इस बात का ध्यान रखे। इससे क्या होगा कि जिसको पथरी बार बार बनती है वो नही बनेगी और खाने में हमने आपको बता ही दिया की केल्शियम और प्रोटीन वाली चीजे ज्यादा न ले। जिनको पथरी की समस्या है वो तो बिलकुल भी न ले इस बात भी विशेष ध्यान रखे।

हमारी पाचन शक्ति कमजोर या उसमे गड़बड़ होने की वजह से ये केल्शियम और प्रोटीन शरीर में पच नही पाता है और फिर ही ये समस्या होती है।

इसलिए आपको अपनी पाचन शक्ति का विशेष ध्यान रखना होगा। अगर आपकी पाचन शक्ति तेज और मजबूत बनी रहेगी तो आप जो भी खायेंगे वो सब पचने लगेगा। यानि आपको कोई भी रोग नही होगा अगर आपकी पाचन शक्ति ठीक है तो।

दोस्तों पाचन शक्ति को ठीक करने के लिए और इसको मजबूत बनाने के लिए हम अलग से लेख लिखेंगे। अगर आप चाहते है की हम इस पर लेख लिखें तो आप हमें कमेंट करिए। अभी हम इसमे बताएँगे तो लेख बहुत लम्बा हो जायेगा।

तो पथरी के बारे में ये तो आपने जान लिया कि आखिर ये किस कारण होती है और आगे से न हो उसके लिये क्या करना चाहिए। अब जान लीजिये की अगर किडनी में स्टोन है तो उसके लिए क्या करना चाहिए?

दोस्तों अब हम आपको ऐसे प्रयोग बता रहे है जिसको अगर आप करेंगे तो शत-प्रतिशत आपकी पथरी निकलेगी और आपकी किडनी में कही पर भी स्टोन होगा उसको ये प्रयोग गलाकर निकाल देगा।

पथरी निकालने का पहला प्रयोग –  अभी जो प्रयोग हम बता रहे है यह किसी चमत्कार से कम नही है। बहुत से लोगो ने इस उपाय को आजमाया है और इस चमत्कारी उपाय से आज वो बिलकुल ठीक है। जो डॉक्टर बोलते है की पित्त की पथरी नही निकल सकती या किडनी की पथरी नही निकल सकती तो ये प्रयोग उनके मूँह पर तमाचा है क्योकि पता नही कितने ही लोगो की पथरी इस प्रयोग से निकल गई है।

यह प्रयोग गॉल-ब्लैडर और किडनी दोनों प्रकार के स्टोन को निकालने में बेहद कारगर है।

वो चमत्कारी औषधि है गुडहल के फूलों का पाउडर अर्थात इंग्लिश में कहें तो Hibiscus powder (हिबिसकस पाउडर)

ये पाउडर बहुत आसानी से आपको पंसारी की दूकान से मिल जाएगा। अगर आप वहा से नही लेना चाहते तो आप खुद इस पाउडर को बना सकते है।

पाउडर बनाने के लिए आप गुडहल के फूलो कि पंखुड़ियों को धुप में सुखा लीजिये और इसका पाउडर कर लीजिये और किसी कांच के बर्तन में डाल कर रख लीजिये।

दोस्तों पथरी निकालने के लिए इस पाउडर का इस्तेमाल कैसे करना है ये थोडा जान लेते है।

गुडहल का पाउडर एक चम्मच रात को सोते समय खाना खाने के कम से कम एक डेढ़ घंटा बाद गर्म पानी के साथ फांक लीजिये। अगर पथरी से पीड़ित व्यक्ति कमजोर है तो आधी चम्मच उसको देना है इस बात का ध्यान रखे। ये थोडा कड़वा होता है इसलिए मन भी थोडा कठोर कर के रखें। मगर ये इतना भी कड़वा नहीं होता कि आप इसको खा ना सको। इसको खाना बिलकुल आसान है दोस्तों, इसे खाने के बाद कुछ भी खाना पीना नहीं है इस बात का भी ध्यान रखे।

एक और बात कि हो सकता है इस चूर्ण को लेने के बाद सीने में दर्द हो। अगर पथरी बड़ी है तो तेज दर्द भी हो सकता है। ये दर्द पथरी के टूटने की वजह से होता है। तो आप निश्चिंत रहिये। अगर पथरी छोटी है तो थोडा बहुत दर्द हो सकता है लेकिन अगर पथरी बड़ी है जैसे 25 mm  या इससे भी बड़ी तो तेज दर्द भी हो सकता है। इसलिए जिस किसी के भी पथरी की साइज बड़ी है तो वो केवल डॉक्टर की देख रेख में और अपने विवेक से ही इस प्रयोग को करें। इस बात का विशेष ध्यान रखे।

कितने दिन तक इस चूर्ण को लेना है?

आप मात्र 5 से 7 दिन तक इस चूर्ण का सेवन करिए। इन दिनों के अंतराल में ही आपकी पथरी टूट गल कर बाहर निकल जाएगी। एक बात और हम आपको बताना चाहेंगे कि जब आप इस प्रयोग को करेंगे तो आप उससे पहले 5 दिन तक हर रोज 5 गिलास सेब का जूस पिए यानि एक दिन में 5 गिलास हर तीन तीन घंटे के अन्तराल में पीना है और उसके बाद ही आप इस प्रयोग को करिए आपको लाभ जरुर होगा।

इस प्रयोग को करते समय पालक, टमाटर, चुकंदर, भिंडी का सेवन न करें इस बात का भी ध्यान रखे।

 ये पहला प्रयोग है पथरी निकालने का, अब जानते है पथरी निकालने का दूसरा प्रयोग:-

यह प्रयोग भी बहुत ही अद्भुत है इससे भी हजारो लोग बिलकुल ठीक हो चुके है और अभी स्वस्थ है। तो आप इसे भी जल्दी से नोट कर लीजिये।

इस प्रयोग में आपको प्याज और सफ़ेद मिश्री की आवश्यकता होगी। यानि आपको 70 ग्राम प्याज लेना है और उसका रस निकालना है। 70 ग्राम प्याज से लगभग 5 से 10 ml  प्याज रस निकल जायेगा।

उसको आप एक कटोरी में ले लीजिये और उसमे 5 ग्राम सफ़ेद मिश्री कूटकर मिला लीजिये। मिश्री आपको डोरे वाली ही प्रयोग में लेनी है इस बात का ध्यान रखे। इस मिश्रण को आप सुबह और शाम खाली पेट लीजिये और पांच दिन तक लगातार आपको यह प्रयोग करना है। आप देखेंगे कि केवल पांच दिन में ये प्रयोग आपकी गुर्दे की पथरी के टुकड़े टुकड़े कर बाहर निकाल देगा।

अगर पथरी बड़ी हो तो ये प्रयोग आप 20 दिन तक जारी रखे और उसके बाद में आप जांच करवा ले ताकि आपको संतुष्टि मिल सके कि आपकी पथरी निकल चुकी है या नही।

आप विश्वास रखे क्यूँकि लगभग 250 लोगों को ये उपाय बताया गया है। उनको ये 3 दिन से असर महसूस होने लगा। जेसे ही आप ये प्रयोग चालू करेंगे तो 3 से 5 दिन बाद एक या दो दिन तक आपको हल्का सा रक्त युक्त, यानि लाल पेशाब आएगा ये संकेत है कि आपकी पथरी के छोटे छोटे टुकड़े हो गये। फिर धीरे धीरे ये पथरी पेशाब के राशते निकल जाएगी। तो आप इस प्रयोग को भी कर सकते है।

पथरी पर विस्तृत लेख:- Click Here

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इस लेख को जरुर शेयर कर दीजिये ताकि सब लोगो तक यह जानकारी पहुँच सके और वो अपना उपचार स्वयं कर सके। धन्यवाद !