अगर आप अपच (Indigestion) से परेशान हैं, तो करें ये घरेलू उपचार

170

अपच (Indigestion) की समस्या –

आज हर किसी का बदहजमी(Indigestion) के कारण पेट ख़राब रहता है। और लगभग हर व्यक्ति कभी न कभी बदहजमी(Indigestion)का शिकार होता ही है। यह कोई रोग नही है यह बहुत सारी समस्याओ का एक लक्षण है। खाने के गलत ढंग और पाचन तन्त्र की गड़बड़ी के कारण बदहजमी(Indigestion) हो सकती है खाने के गलत ढंग और अन्य कारणों से पाचन तंत्र में गड़बड़ी हो जाती है और उसी के कारण यह समस्या होती है,अभी आपको बहुत ही सरल तरीके से बताया जायेगा की आप किस तरह इस समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पा सकते है।
यह तो आपको पता ही है की सारा खेल भोजन का है।इसलिए हमे अपच जो जानने के लिए पाचनतंत्र को जानना होगा की यह किस तरह से काम करता है पाचनतंत्र ही हमारे भोजन को एनर्जी में बदलकर हमारे शरीर को शक्ति और पोषण देता है। जिससे हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनती है और हम रोगों से दूर रहते है। अगर यह पाचन तंत्र बिगड़ जाए तो हमारे द्वारा खाया गया भोजन का सही ढंग से पाचन नही हो पाता है।
जिस कारण हमारे शरीर को जरुरी विटामिन्स और मिनरल्स नहीं मिल पाते है।जिससे धीरे-धीरे हमारा इम्यून सिस्टम भी काम करना बंद कर देता है। फलस्वरूप हमारा शरीर के अन्दर के अंग कमजोर हो जाते है जिसके कारण छोटी बड़ी बीमारियाँ हमे कभी भी होने लगती है
अमूमन हम लोग स्वाद लेने के चक्कर में अधिक खाना खा लेते है। उस समय अधिक खा लेने से हमें बाद में पछताना पड़ता है। हम अपनी सेहत पर ध्यान न देकर अपने काम पर ही ज्यादा ध्यान देते है जो ठीक नहीं है यह परेशानी हमें कमजोर कर देती है।
भोजन के बारे में हमे यह जानकारी ही नहीं है कि भोजन हमें किस तरह से करना चाहिए? इसी कारण लोगों को अपच की समस्या होती है भोजन करने का सही तरीका यह है आप जब भोजन करने बैठे तो इस बात का ध्यान जरुर रखें आप को भोजन तब तक ही करना है जब तक आप को तृप्ति डकार आ जाए। उसके बाद आपको खाना नहीं खाना चाहिए। क्योंकि आप इससे ज्यादा खाना खायेंगे तो फिर आपको अपच (बदहजमी)होना निश्चित है। व्यक्ति तृप्ति डकार आने के बाद भी खाना खाते रहते है और जब आमाशय पूरा भर जाता है तो फिर आती है पूर्ण डकार। पूर्ण डकार आने के बाद पाचक रस को भोजन पचाने के लिए जगह ही नहीं मिलती। पाचक रसों को जगह नहीं मिलने के कारण फिर आती खट्टी डकार जिसे एसिडिटी कहते है जब खाने का पाचन सही तरीके से नहीं होता है पूरा दिन वह सही तरीके से काम भी नहीं कर पाता है।

इसके अलावा कुछ और भी कारण आपको बताए जा रहे है इन पर भी आप ध्यान दें

एक ही जगह दिनभर बैठ कर काम करना, फास्ट फूड या जंक फूड का सेवन करना ,दिनचर्या का सही न होना, अनिद्रा होना, काम या किसी बात को लेकर तनाव का होना, शारीरिक श्रम कम करना,बहुत कम मात्रा में पानी पीना, तम्बाकू उत्पाद (शराब और सिगरेट) का अधिक सेवन करना, ज्यादा मात्रा में भोजन करना, समय पर भोजन न करना, देर रात तक जागे रहना। अपच के साथ साथ अन्य समस्याओ के कारण है।
यहाँ हम आपको कुछ फलों और खाद्य पदार्थो की जानकारी दे रहे है जिनका सेवन करते रहने से आपकी अपच की समस्या दूर हो जायेगी। और आपकी सेहत बेहतर बनेगी। हमें इस बात का ध्यान रखना है कि पहले समस्या का कारण क्या है उसके बारे में जानकर उस कारण को ठीक करना है कारण को ठीक करने के बाद समस्या लगभग आधी खत्म हो जाती है फिर आधी समस्या हम कोई भी उपाय करके खत्म कर सकते है

अपच को ठीक करने के उपाय-

अजवाइन- अजवाइन हमारे पेट के लिए बहुत अच्छी होती है वह हमारे अपच की समस्या को ठीक करती है अजवाइन को आप चुटकी भर हींग और काले नमक के साथ फंकी मारकर पानी पी लेना है।
छाछ – छाछ हमारे खाने को पचाने में बहुत लाभदायक है आप चाहे तो इसे खाने के साथ भी पी सकते है अपच में लोग ज्यादातर इसका इस्तेमाल करते है।
खाने में फाइबर वाली चीजो का सेवन करें- खीरा, ककड़ी साबुत अनाज,सूखे मेवे, टमाटर आदि जैसे फाइबर से भरे खाद्य पदार्थों का सेवन करे। इनको खाने से पाचन तन्त्र ठीक हो जायेगा और भूख भी खुलकर लगेगी।
अदरक- अदरक एक ऐसी चीज है जो हमारे शरीर में भोजन को पचाने वाले पाचक रस और एंजाइम को बढाता है इसका रस पाचन शक्ति को ठीक करता है पाचन बिगड़ जाने पर अदरक का सेवन जरुर करें।
अमरुद- अमरुद एक ऐसा फल है जो पौष्टिकता से भरपूर होता है अमरुद का सेवन करते रहने से आप की पाचन शक्ति मजबूत बनी रहेगी।
केला – केला हमारे पेट के लिए बहुत अच्छा होता है और यह हर मौसम में हमें आसानी से मिल जाता है यह हमारी पाचन शक्ति को बढ़ाता है इसीलिए केला जरुर खाएं।
ऊपर बताए गए तरीकों को फॉलो करके आप अपने पाचन तंत्र को दुरुस्त कर सकते हैं। पाचन सही होने से अपच भी ठीक हो जाएगी। उम्मीद है हमारी जानकारी अच्छी लगी होगी धन्यवाद

⇒दूध पीने से गैस और अपच होता है तो इस तरह से पीये दूध – Drinking milk this way will not produce gas⇐click करें 

⇒मुँह के छालों (Mouth ulcers)को करें जड़ से खत्म⇐click करें