पान का चूना है (limestones) केल्शियम का भंडार जानिए कैसे करे उपयोग

1237
आज हम आपको एक बहुत ही अच्छी जानकारी देने वाले है। चूने (limestones) के बारे में।          वो चूना (limestones)जो आप पान में मिलाकर खाते हो। यह चूना (limestones)हमारी सेहत के लिए बेहद फायेदमंद और कई बीमारियों को ठीक करने वाला होता है।
यह चूना आयुर्वेद की सबसे महत्वपूर्ण औषधि है। आप जानकार हैरान हो जायेंगे कि यह चूना 70 (सत्तर) बीमारियों को ठीक करता है।
दोस्तों श्री राजीव दीक्षित जी ने अपने एक व्याख्यान में चूने के गुणों और सेवन के लाभ के बारे मे वर्णन किया है जो आज हम आपको बताने जा रहें है। बहुत ही कम लोगों को पान में मिलाए जाने वाले चूने के फायदों के बारे में पता होता है।

चूने से होने वाले फायदे –

1) बच्चों की लंबाई को बढ़ाता है – बच्चो को गेहूं के दाने के बराबर चूने को दही के साथ या फिर दाल के साथ मिलाकर देने से उनकी लंबाई तेजी से बढ़ती है। साथ ही साथ चूना बच्चों के दिमाग को भी तेज बनाता है।
2) बच्चों की बुद्धि को बढ़ाये – जिन बच्चों की बुद्धि कम काम करती है। मतिमंद बच्चे उनकी सबसे अच्छी दवा है चूना, जो बच्चे बुद्धि से कम है, दिमाग देर में काम करते है, देर में सोचते है हर चीज उनकी स्लो है उन सभी बच्चे को चूना खिलाने से वो एकदम अछे हो जायेंगे। इसलिए हर रोज बच्चो को चूना खिलाइये।
3) शरीर में खून बढ़ाना हो तो करे चूने का सेवन – शरीर में जब खून कम हो जाये तो चूना जरुर लेना चाहिए। अनीमिया यानि खून की कमी की सबसे अच्छी दवा है ये चूना। चूना पीते रहो गन्ने के रस में , संतरे के रस में नही तो सबसे अच्छा है अनार के रस में।
अनार के रस में चूना पिए खून बहुत बढता है। बहुत जल्दी खून बनता है। एक दिन में कितना लेना है एक कप अनार का रस गेहूँ के दाने के बराबर चूना सुबह खाली पेट।
4) घुटनो के दर्द के लिए – जिनके भी गुटने में दर्द रहता है कंधे में दर्द रहता है कमर में दर्द रहता है तो रोज चूना खाइए। कितना खाना है और किसके साथ खाना है? हर रोज ताजा दही में 1 कप दही में गेहू के बराबर चूना डालकर रोज सेवन करे। दही नही है तो आप या तो गर्म पानी और या फिर दाल में डालकर भी ले सकते है।
इससे घुटने का दर्द ठीक होता है, कंधे का दर्द ठीक होता है, कमर का दर्द ठीक होता है, साइटिका जिसे हम स्लिप डिस्क भी कहते है वो भी चूने से ठीक होता है और साथ ही रीड की हड्डी की सारी समस्याए दूर होती है।
5) Pregnancy (गर्भावस्था) के दौरान खाए चूना – जब कोई माँ गर्भावस्था में है तो उसे चूना रोज खाना चाहिए। क्योंकि गर्भवती माँ को सबसे ज्यादा केल्शियम और आयरन की जरुरत होती है और चूना केल्शियम का सबसे बड़ा भंडार है। गर्भवती माँ को चूना कैसे खिलाना है यह थोडा समझ लीजिये।
1 कप अनार के रस में चूना गेहूँ के दाने के बराबर मिलाइए और रोज सुबह के समय इसका प्रयोग करे। लगातार 9 महीने तक पिलाइए।
दोस्तों चूने में भरपूर मात्रा में केल्शियम होता है और अनार में आयरन होता है और एक गर्भवती माँ को इन्ही चीजो की सबसे ज्यादा आवश्यक्ता होती है।

अगर एक गर्भवती माँ नो महीने तक इसका सेवन करती तो उसे चार फायदे होंगे –

पहला फायदा —- माँ बच्चे को जनम देते समय कोई तकलीफ नही होगी और नॉर्मल डीलिवरी होगी।

दूसरा फायदा —- जब बच्चा होगा वो बहुत ही हष्ट-पुष्ट  होगा और तंदुरूस्त होगा।

तीसरा फायदा —- वो बच्चा जिन्दगी में जल्दी बीमार नही पड़ेगा जिसकी माँ ने चूना खाया है।

चौथा और सबसे बड़ा लाभ —- वो बच्चा बहुत होशियार होता है, बहुत इंटेलीजेंट और ब्रिलियंट होता है और सुन्दर होता है।

6) नपुंसकता – यह जो चूना है यह नपुंसकता की बहुत अच्छी दवा है। अगर कोई पुरुष ऐसा है जिसके वीर्य में शुक्राणुओ की संख्या एकदम निल है या बिलकुल कम है तो उनको चूने का सेवन करना चाहिए।

हर रोज गन्ने के रस में गेहू के दाने के बराबर चूना मिलाकर खाइए जिससे वीर्य में शक्राणुओ की संख्या भरमार हो जायेगी और साथ ही और भी फायदे भी होंगे।

7) दांतों की समस्या में करे चुने का सेवन – आपके दांत में अक्सर ठंडा गर्म पानी लगता है तो आप चूना खा लीजिये बिलकुल ठीक हो जायेंगे। दांत में कीड़े बहुत लगते है चूना खाइए नही लगेंगे और अगर दांत हिलते है या कमजोर है तो चूना खाइए मजबूत हो जाएंगे। यह एक चूना 70 बीमारियों में काम आता है।

राजीव दीक्षित जी कहते है कि आप चूना खाइए पर चूना लगाइए मत किसी को।

8) मासिक धर्म में – हमारे घर में माताए है जिनकी उम्र 50 वर्ष हो गई है और जिन माताओं की उम्र 50 वर्ष हो जाती है उनका मासिक धर्म बंद होता है मासिक चक्र बंद होता है फिर वो माताओ को जितनी तकलीफे होती है मासिक चक्र बंद होने से उनकी सबसे अच्छी दवा ये चूना ही है। आप उनको कहिये रोज चूना खाए गेहू के दाने के बराबर।

घर में हमारी सभी बहने और माताए जो मासिक धर्म की समस्या से परेशान है। उनका मासिक धर्म समय से नही आता। यदि आता है तो बहुत खून आता है या उसमे कई बार समय बहुत लगता है। इन सब मासिक धर्म की बीमारियों में दर्द बहुत होता है। तो आप चूना खाइए गेहू के दाने के बराबर। दही में नही तो दाल में नही तो गर्म पानी में। तो आपको मासिक धर्म की सारी समस्याओ से राहत मिलेगी।

9) पीलिया को करता है जड़ से ख़त्म – यह जो चूना है ना यह बहुत अद्भुत दवा है उन सभी मरीजो के लिए जिनको पीलिया होता रहता है अक्सर (जोंडिस)। जिनको भी जोंडिस होता है उनको आप गन्ने के रस में गेहू के दाने के बराबर चूना मिलाकर दीजिये। आधा गिलास गन्ने का रस गेहू के दाने के बराबर चूना। इससे बहुत ही जल्दी पीलिया ठीक होगा और जो बार बार पीलिया होता है वो भी बंद होगा।

इसलिए आप भी चूना खाइए और खिलाइए।

लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात ये कि किन लोगो को चूने का सेवन नही करना चाहिए?

जिन लोगो को पथरी की बीमारी है जिनको gallbladder stone है वो चूना ना खाए, जिनको किडनी स्टोन है वो चूना ना खाए, जिनके मूत्र पिंड में पत्थर है वो चूना ना खाए। बाकि सब खाए और चूना पत्थर वाला ही खाए जो की पान की दुकान में मिलता है।

⇒रोज खाएंगे चूना तो होंगे हैरान कर देने वाले फायदे⇐click करें 

10) हड्डी क्रेक हो जाए तो करे चुने का सेवन – कभी हड्डी क्रेक हो जाए तो हड्डी को जोड़ने की सबसे ज्यादा ताकत चूने में है। इसलिए चूना खाइए पैर की एड़ी का दर्द है चूना खाइए ठीक होगा। पैर पंजो में दर्द है चूना खाइए ठीक होगा।

11) बांझपन – ऐसी अगर कोई माताए बेहने हमारे घर में है जो माँ नही बन पा रही है और तरह तरह से डॉक्टर ने उनकी जांच की है या डॉक्टर कहता है कि उसके समझ में नही आता सब चीज तो normal है फिर भी माँ नही बन पा रही है। ऐसी किसी भी माँ को लगातार चूना खिला दो बहुत जल्दी माँ बनेंगे।

माताए बहने यह बात हमेशा याद रखे कि ऐसी कई माताए होती है जो गर्भ धारण तो कर लेती है लेकिन महीने 2 महीने में घर्भपात हो जाता है उनका कोई कारण हो सकता है। एक महीने में किसी का 2 किसी का तीन महीने में घर्भपात हो जाता है ऐसी सब माताओं को चूना खिलाइए तो कभी भी गर्भपात नही होगा।

तो सब माताओं को हमारा ये कहना है कि जब भी कोई गर्भवती माँ हो अपने घर में तो उसको हर दिन चूना खिलाइए ताकि गर्भपात न हो और बच्चा स्वस्थ हो।

⇒छुआरे वाला दूध (dates milk)बल और वीर्य को बढ़ाता है इस तरह से पिए⇐click करें  

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इस लेख को जरुर शेयर कर दीजिये ताकि सब लोगो तक यह जानकारी पहुँच सके और वो अपना उपचार स्वयं कर सके। धन्यवाद !