इस तरह से करें अपने पेट की सफाई(Stomach cleaning) और दूर करें सभी बीमारियाँ।

1596
आज हम बात करेंगे पेट की सफाई (Stomach cleaning)के बारे में कि कैसे आप अपने पेट में जमी गंदगी को बाहर निकाल सकते है और अपने पेट को बिलकुल चकाचक(Stomach cleaning) कर सकते है।

यदि शौच के दौरान आपका पेट अच्छी तरह से साफ़ नहीं होता है तो समझ लीजिये आपको कब्ज की बीमारी हैं और तरल पदार्थो की कमी आपके शरीर में हो रही हैं। यदि कब्ज हो जाये तो कोई भी खुद को फ्रेश फील नहीं कर पाता हैं।

एक बात ध्यान अवश्य रखिये कि कब्ज होने पर उसको कभी भी अनदेखा न करे नही तो इसके परिणाम काफी घातक भी हो सकते है। यह किसी भी जटिल बीमारी का रूप ले लेता हैं।

कब्ज के होते ही पेट में अनेको व्याधियां आ जाती हैं। उदाहरण के लिए कब्ज वाले रोगी को पेट दर्द की शिकायत रहती हैं। सुबह शौच करने में परेशानी आती हैं तथा मल का शरीर से पूरी तरह ना निकलना जैसी परेशानियो से सामना करना पड़ता है।

वैसे तो कब्ज के लिए बहुत उपाय हैं पर कब्ज को जड़ से खत्म करने के लिए मात्र आयुर्वेदिक उपाय ही कारगर साबित हुए हैं। इसलिए इसे ठीक करने के लिए हमे कुछ न कुछ उपाय जरुर करना चाहिए।

आयुर्वेद में कहा गया है की जिसका भी पित्त ठीक है यानि पेट साफ़ है तो उसको पित्त से सबंधित 46 रोग उसे कभी जीवन में नही होंगे। इसलिए हमें पेट को साफ़ रखना बहुत जरुरी है। तो आइये जानते है की पेट को साफ़ रखने के लिए हमे किन किन चीजो का सेवन करना चाहिए और किन किन बातो का ध्यान रखना है।

⇒पेट की सारी गंदगी को बाहर निकाल देगा केवल एक ही रात में⇐click करें 

कब्ज का मुख्य कारण हैं शरीर में पानी और दूसरे प्रकार के तरल पदार्थो की कमी हो जाना। इन्ही तरल पदार्थो की कमी के चलते आंतो में मल सूख जाता हैं और सुबह शौच क्रिया के दौरान बल प्रयोग करना पड़ता हैं। इसके चलते कब्ज रोगी को दिक्कत का सामना करना पड़ता हैं।

दलिया, खिचड़ी जैसे और तरल पदार्थो को लेने की कब्ज रोगीयो को अक्सर सलाह दी जाती हैं। इसके आलावा कब्ज के रोगी को गुनगुना पानी पिने की सलाह भी दी जाती है। गुनगुना पानी अगर आप रोज सुबह पीते है तो आपको इसके जबरदस्त फायदे देखने को मिलेंगे ये आपका पेट तो साफ़ करेगा ही साथ ही अन्य बीमारियों जैसे हाई बी पी समस्या यूरिक एसिड की समस्या, शुगर समस्या, किडनी की सफाई आदि बीमारियों को धीरे धीरे जड़ से ख़त्म कर देता है।

* कब्ज होने पर या पेट में कुछ गड़बड़ होने पर भूलकर भी भारी भोजन ना करे इस बात का विशेष ध्यान रखे ऐसी स्तिथि में आप कुछ भी न खाए तो अच्छा होगा लेकिन फिर भी अगर आप कुछ खाना चाहते है तो हल्का भोजन ही करे जिसमे आप खिचड़ी, दलिया, सूप ले सकते है और फलो में आप पपीता का सेवन जरुर करे।

जब भी आपको कब्ज जैसी समस्या हो जाए तो आप पपीता का भरपेट सेवन कीजिये। ये आपके पेट को बहुत जल्दी साफ़ करेगा और पेट में आराम देगा।

आयुर्वेद में बहुत सारी ऐसी ओषधिया भी है जिसके सेवन से आप अपना पेट और पेट से जुडी अन्य समस्याए बहुत ही जल्दी ख़त्म कर सकते है और वो ओषधिया कुछ तो आपको घर पर मिल जायेगी और कुछ आपको बाजार से लेनी होगी।

पेट की सफाई और समस्त रोगों को दूर करने के लिए पहला उपाय ( त्रिफला चूर्ण )
यह उपाय बहुत ही अद्भुत है। यह हमारे शरीर में समस्त रोगों वात पित्त कफ में आने वाले सारे रोगों का नाश करता है। इस चूर्ण का उल्लेख 3000 हजार साल पहले लिखे गये आयुर्वेदिक ग्रन्थ अष्टांग हृदयम में मिलता है

जिसे महर्षि बाग़भट्ट जी ने लिखा था। उन्होंने इस चूर्ण के बारे में लिखा है की यह चूर्ण शरीर में होने वाले समस्त रोगों का नाश करता है और जो इस चूर्ण का लगातार सेवन करता है उसको जीवन में कभी भी कोई भी रोग नही हो सकता है। तो आज हम आपको इसी चूर्ण के बारे में बता रहे है कि उसको कैसे बनाना है और उसका सेवन कैसे करना है।

विधि –

छोटी हरड 100 ग्राम
बहेड़ा 200 ग्राम
आवला 300 ग्राम
ये आपको बाजार से पंसारी की दूकान से लेकर आना है और सही देख कर लाना है क्योकि आजकल मार्केट में नकली ओषधिया भी मिलती है तो आप उनसे सावधान रहे अन्यथा लाने के बाद आप कहेंगे की ये तो काम ही नही कर रही है। इसलिए सही और ओथेन्टीक (Authentic) जगह से ही ये सामग्रिया ले। इनको लाने के बाद आप इन्हें अच्छे से साफ़ कर लीजिये और पहले इनको हमामदस्ते में कूट लीजिये और फिर मिक्स्सी की सहायता से इनका पाउडर बना लीजिये फिर अच्छे से मिक्स कर लीजिये।

मिक्स करके इसे कांच के बर्तन में डालकर रख लीजिये। अगर आप चाहे तो इस चूर्ण को ऑनलाइन भी खरीद सकते है अगर आप ऑनलाइन खरीदना चाहते है तो हमने इसका लिंक (Link) इस लेख (Post) के अंत में दिया है वहा से आप आर्डर कर सकते है। हर शाम को खाना खाने के डेड घंटे बाद आप इसका सेवन करिए।

सेवन विधि –

सेवन कैसे करना है कितनी मात्रा में करना है ये थोडा जान लेते है। डेड चम्मच इस चूर्ण की और आधा गिलास गुनगुना पानी के साथ लेना है। आप चाहे तो पानी में मिक्स करके भी ले सकते है और या फंकी मार कर उपर से पानी की सहायता से भी ले सकते है।

पानी की जगह आप दूध का भी इस्तेमाल कर सकते है। अगर दूध का इस्तेमाल करना है तो उसमे गुड का प्रयोग कीजिये और या फीका ही लीजिये। शकर नही मिलानी है इस बात का ध्यान रखे और इसका सेवन कीजिये।

घर के सभी सदस्य जिनकी उम्र 15 से उपर है वो सब इस चूर्ण का इस्तेमाल कर सकते है। यह शरीर की सारी गंदगी को बाहर निकल देगा और कब्ज तो कोसो दूर रहेगा। आप हमेशा अपने काम के प्रति एक्टिव रहेंगे और आलस्य ख़त्म हो जाएगा। शरीर में नई जान दाल देता है।

महर्षि बाग़भट्ट जी ने इसके और भी अद्भुत प्रयोग बताये है जो अभी हम आपको नही बता सकते है उसके लिए हमे दूसरी पोस्ट बनानी पड़ेगी अगर आप चाहते है की हम एस विषय पर और भी जानकारी आपको दे तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है।

*पेट साफ़ करने के लिए दूसरा उपाय –

गुड़ और गिलोय : गुड के साथ गिलोय का बारीक़ चूर्ण बराबर मात्रा में रात को सोते समय ले लीजिये। जैसे एक चम्मच गिलोय का चूर्ण तो उतना ही मात्रा में गुड आपको लेना है और इन दोनों को या तो आपस में मिक्स कर लीजिये और या पहले फांक लीजिये और ऊपर से गुड खा लीजिये। यह आपकी कब्ज को एकदम ठीक करेगा। यह प्रयोग आप करेंगे और सुबह जब आप गुनगुना पानी पीकर बाथरूम जायेंगे तो आपका पेट एकदम साफ़ हो जाएगा।

*पेट की सफाई और कब्ज को दूर करने का तीसरा उपाय –

सेंधा नमक10 ग्राम
त्रिफला 10 ग्राम
अजवायन10 ग्राम
इन सबको मिलाकर कूट लीजिये और एक बारीक़ चूर्ण बना लीजिये।

सेवन विधि –
हर रोज हल्के गर्म पानी के साथ 3 से 5 ग्राम चूर्ण का सेवन कीजिये। इस चूर्ण के सेवन से आपकी पुरानी से पुरानी कब्ज भी खत्म हो जाएगी और आपको गैस जैसी समस्या भी नही होगी। इससे भूख भी खुलकर लगती है। इसलिए इसका इस्तेमाल आप लम्बे समय तक भी कर सकते है।

एक बात का ध्यान रखे कि किसी भी आयुर्वेदिक दवा का इस्तेमाल 3 महीने से ज्यादा न करे अगर ज्यादा ही जरुरी है तो आप 10 से 15 दिनों का गैप देकर वापिस शुरू कर सकते है।

तो आप यहा पर बताई गई ओषधियो का सेवन कीजिये और शरीर की समस्त बीमारियों का खात्मा कीजिये।

⇒पेट की सफाई (clean stomach) के 3 सरल घरेलु नुस्खे⇐click करें 

आपके मन में जो भी सवाल हो जो आप हमसे पूछना चाहते है या कोई ऐसा विषय जिस पर पोस्ट बनाने के लिए आप हमे प्रेरित करना चाहते है तो आप हमे नि:संकोच कमेंट करिए। हम उसका जवाब आपको देर सवेर जरुर देंगे। धन्यवाद !

3 COMMENTS

    • अपने त्रिफला पैकेट को ऑर्डर करने के लिए कृपया नीचे दिए गए विवरण का अनुसरण करें.

      1. “Our Products” मेनू पर क्लिक करें.
      2. उत्पाद चित्र के नीचे “Add To Cart” बटन पर क्लिक करें.
      3. कार्ट की एक साइडबार या गुलाबी रंग की कार्ट दिखाई देगी । चेकआउट पर क्लिक करें.
      4. चेकआउट पेज पर अपने सभी विवरण जैसे नाम, पता, ई-मेल, मोबाइल, राज्य और शहर आदि भरें ।
      5. अब नीचे स्क्रॉल करें और चुनें कि आप किस पेमेंट प्रोसेसर के साथ भुगतान करना चाहते हैं. अगर आपके पास पेटीएम अकाउंट है तो paytm चुनें । यदि आपके पास केवल क्रेडिट / डेबिट कार्ड या नेटबैंकिंग है तो cashfree चुनें ।
      6. “Privacy Policy” समझौते को चिह्नित करें और फिर “Place Order” पर क्लिक करें. यह आपको भुगतान के लिए पेमेंट प्रोसेसर पेज पर ले जाएगा.
      7. अपना क्रेडिट / डेबिट कार्ड या नेटबैंकिंग विवरण भरें और भुगतान को अधिकृत करें.
      8. आपके बैंक खाते से राशि काट दी जाएगी और फिर आपको हमारी साइट पर रीडायरेक्ट किया जाएगा, उस पेज पर जिस पर लिखा होगा “Thank you, your order has been placed”.

      आपने सफलतापूर्वक अपना ऑर्डर दे दिया है. अब हम 2-3 व्यावसायिक दिनों के भीतर आपके आर्डर को प्रोसेस करेंगे (सोम-शुक्र). जब हम कूरियर या स्पीड पोस्ट के माध्यम से आपका ऑर्डर भेजेंगे, तो आपको कन्फ़र्मेशन ई-मेल मिलेगा जिसमे आपका ट्रैकिंग आईडी भी दिया जायेगा। इसके अलावा आप हमारी वेबसाइट पर “My Account” सेक्शन पर जाकर “Orders” सेक्शन में भी अपना आर्डर और ट्रैकिंग आईडी देख सकते हैं।

      नोट :- कुछ मामलों में आपको कूरियर के कार्यालय पर जाकर अपने उत्पाद / ऑर्डर को पिकअप करने की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि कभी-कभी वे दो बार से अधिक कॉल नहीं करते हैं और यह भी हो सकता है कि वे डिलीवरी बॉय को आपके घर पर न भेज सकें ।