आयुर्वेद, आसान नुस्खे, प्राणायाम विज्ञान, रामबाण नुस्खे, स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती

टीबी रोग (Tuberculosis)को जड़ से खत्म करते हैं ये 8 घरेलू नुस्खे

तपेदिक (Tuberculosis) को ठीक करने के घरेलू रामबाण उपाय-

टी.बी.(Tuberculosis)का रोग कीटाणु जन्य होता है।इसके अलावा प्रदूषित वातावरण में रहने से, अधिक श्रम करने से,चिंता करने से और पोष्टिक आहार न मिलने से यह रोग होता है। शुरुआत में हल्का बुखार आता है। और थकान का अनुभव होता है।
धीरे-धीरे थकान बढती जाती है और खांसी शुरू होती है और खांसी के साथ खून भी आने लगता है। धीरे-धीरे वजन भी कम होता जाता है।और भूख भी नहीं लगती है।छाती में लगातार दर्द रहने लगता है अपच होना,मिचली आना और साँस लेने में तकलीफ और पतले दस्त होना और बूंद -बूंद करके पेशाब आना इसके प्रमुख लक्षण है। इसको कुछ घरेलू उपायों के द्वारा भी ठीक किया जा सकता है।

ये घरेलू उपाय निम्न है –

1. केले के पत्तों को सुखाकर उसकी राख बनाएं आधा चम्मच राख शहद के साथ प्रतिदिन चाटे।इसके साथ -साथ कच्चे केले की सब्जी बनाकर खाएं और दो चम्मच केले के तने का रस भी पियें।भोजन के बाद पके केले खाने से भी रोग में काफी आराम मिलता है।

2.आधा चम्मच पीपल के फलों का चूर्ण गाय के दूध के साथ लें।आंवला तथा सेब का मुरब्बा खाने से टी.बी. में काफी आराम मिलता है।

3.प्रतिदिन आम का रस गाय के दूध के साथ पिलायें।देशी गाय के घी में 2 लौंग का चूर्ण बनाकर चाटें।कच्चे लहसुन की 4 कली और 5 ग्राम अखरोट की गिरी दोनों को पीसकर गाय के घी में भुनकर खाएं।

4.गाय के दूध की लोणी में थोडा शहद 3 पीपल तथा 3 लौंग का चूर्ण मिलाकर 10 ग्राम देशी बुरा मिलाएं और सुबह -शाम 1-1 चम्मच चाटें।

5. अर्जुन की छाल,गुलसकरी और कौंच के बीज तीनो को समान मात्रा में पीसकर गाय के दूध में पकाएं,पकने के बाद 15 ग्राम देशी गाय का घी तथा मिश्री मिलाकर सेवन करें। असगंध और पीपल का चूर्ण +घी +शहद को क्रमशः 2:2:4:8 अनुपात की मात्रा में मिलाकर पेस्ट बनाकर चाटें।

6.आधा लीटर बकरी का दूध में कद्दूकस किया हुआ 10 ग्राम नारियल तथा 4 ग्राम पिसे हुए लहसुन को दूध में डालकर उबाले। जब दूध आधा रह जाए तो थोडा थोडा सुबह-शाम पियें। गिलोय का सत और छोटी पिपली 2.5 :1 की मात्रा में चूर्ण बनाकर प्रतिदिन प्रात:काल लें।

7. दालचीनी का चूर्ण शहद के साथ दिन में 3-4 बार चाटें। मुलहठी का चूर्ण,शहद और मिश्री को समान मात्रा में लेकर मिलाएं।तथा प्रात:काल में सेवन करें। तपेदिक में लाभ मिलेगा।

8.लहसुन का इस्तेमाल और कच्चे नारियल का इस्तेमाल तपेदिक के कीटाणुओं को मारता है।

⇒ये दावा है हमारा टीबी (Tuberculosis) का ऐसा इलाज कोई नही बतायेगा आपको।⇐click करें 

⇒पेट की सफाई (clean stomach) के 3 सरल घरेलु नुस्खे !⇐click करें 

Leave a Reply

Your email address will not be published.