गला और छाती के रोगों(Throat and chest diseases) का रामबाण इलाज

1329
आज हम आपको बताएँगे गला और छाती के रोगों (Throat and chest diseases) के बारे में तो आज हम बात करेंगे की कैसे हम गले और छाती के रोगों(Throat and chest diseases) से बच सकते हैं।
यहां हम आपको कुछ ऐसे उपाय बतायगे जिन्हें आप आसानी से अपनाकर गले और छाती के रोगों(Throat and chest diseases)से मुक्ति पा सकते है।

गले के अंदर कैसे भी बीमारी हो या किसी भी प्रकार का कोई भी इन्फेक्शन हो तो इसके लिए हल्दी सबसे अच्छी मानी जाती है। अगर गले में खराश है, खासी है या गले के अंदर कफ जमा हुआ है तो इन सब बीमारियों में केवल आधा चम्मच कच्ची हल्दी का रस लेना चाहिए।

* कैसे लेना है –
आधा चमच्च हल्दी का रस कुछ देर तक उसे मुह में रखना है यानि उसे सीधा ही निगलना नही है ..रस को मुह में डालकर ऊपर गर्दन करके थोड़ी देर तक रुकना है ….जिससे हल्दी अपने आप ही लार की सहायता से अन्दर चली जाएगी …

केवल एक खुराक से ही ये गले की सभी बीमारी ठीक हो जायेगी।
ये छोटे बच्चो को तो जरुर करना चाहिए बच्चो के टोन्सिल जब बहुत तकलीफ देते है तो हम ऑपरेशन करवाके उनको कटवाते है वो करने की जरुरत नही है हल्दी के नियमित सेवन से सब ठीक हो जाता है

⇒इतनी नफरत हो जाएगी की जीवन में कभी नही खायेंगे⇐click करें 

* गले और छाती से ही जुडी खांसी भी होती है। इसके लिए एक दवा तो हमने बता दी है कच्ची हल्दी और एक और भी जबरदस्त दवा है अदरक।

अदरक से खांसी को दूर करने के लिए अदरक के टुकड़े को मुह में रखकर चूसना चाहिए। इससे भी खांसी तुरंत ठीक हो जाती है।

अगर किसी को खासते खासते चेहरा लाल पड़ गया हो तो अदरक का रस ले लो 1 चमच्च और 1 चम्मच ही पान का रस दोनों को आपस मिला ले और उसमे मिलाना थोड़ा सा गुड या शहद । अब इसको थोडा गरम करके पी लेना तो जिसको खासते खासते चेहरा लाल पड़ जाता है उसकी खासी एक मिनट में बंद हो जाएगी।

* और एक अच्छी दवा है अनार का रस, अनार का रस गरम करके पिये तो खासी तुरन्त ठीक होती है, और है काली मिर्च एक काली मिर्च लीजिये इसको मुह में चबाइए और पीछे से गरम पानी पी लो तो खासी बंध हो जाएगी, काली मिर्च को चुसो तो भी खासी बंध हो जाती है ।

* गले और छाती की बीमारियों में दमा, अस्थमा, ब्रोंकिओल अस्थमा जैसी बीमारी भी होती है। इन तीनो बीमारी का सबसे अच्छी दवा है गाय का मूत्र

हर रोज आधा कप गोमूत्र पियो सबेरे का ताजा ताजा तो दमा ठीक होता है ब्रोंकिओल अस्थमा ठीक होता है । और गोमूत्र पिने से टीबी भी ठीक हो जाता है ,

* दमा अस्थमा की और एक अच्छी दवा है दालचीनी, इसका पाउडर रोज सुबह आधे चम्मच खाली पेट गुड या शहद मिलाकर गरम पानी के साथ लेने से दमा अस्थमा ठीक कर देती है ।

तो आप इन उपायों को अपनाकर अपना दमा, अस्थमा, ब्रोंकिओल अस्थमा जैसी जानलेवा बीमारियों से बच सकते है और अगर कोई परेशानी हो तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते है। हम पूरी कोशिश करेंगे आपकी समस्या को दूर करने की।

⇒इस तरह से करें अपने पेट की सफाई(Stomach cleaning) और दूर करें सभी बीमारियाँ।⇐click करें 

अगर आप चाहते है की कोई भी व्यक्ति ऐसी गंभीर बीमारियों का शिकार न हो तो प्लीज इस पोस्ट को शेयर करना न भूले! क्या पता आपके एक शेयर से किसी की जान बच जाए आपको हमारी यह जानकारी कैसी लगी आप हमे कमेंट बॉक्स में लिखकर जरुर बताये।